नारी शिक्षा पर निबन्ध , Womens education essay in hindi

नारी शिक्षा पर निबन्ध , Womens education essay in hindi :: नारी शिक्षा समाज की प्रगति के लिए अति आवश्यक हैं। और हमे इसके प्रति जागरूक करने के लिए विभिन्नप्रकार के नारी शिक्षा से सम्बंधित निबन्ध लिखने को दिया जाता हैं। तो आज hindivaani इसीलिए नारी शिक्षा पर निबन्ध Womens education essay in hindi लेकर आया हैं। जहां पर आपको नारी शिक्षा के महत्व और भी जानकारी प्रदान की जायेगी। तो आइए शुरू करते है।

नारी शिक्षा पर निबन्ध , Womens education essay in hindi

नारी शिक्षा का महत्व पर निबंध हिंदी में,नारी शिक्षा का महत्व निबंध हिंदी में,नारी शिक्षा पर निबन्ध हिंदी में ,नारी पर निबंध हिंदी में, Womens education essay in hindi, hindi essay on women education, naari siksha essay in hindi,  नारी शिक्षा पर निबन्ध लिखिए, नारी शिक्षा पर निबन्ध
नारी शिक्षा का महत्व पर निबंध हिंदी में,नारी शिक्षा का महत्व निबंध हिंदी में,नारी शिक्षा पर निबन्ध हिंदी में ,नारी पर निबंध हिंदी में, Womens education essay in hindi, hindi essay on women education, naari siksha essay in hindi, नारी शिक्षा पर निबन्ध लिखिए, नारी शिक्षा पर निबन्ध

रूपरेखा

  • प्रस्तवना
  • एक स्त्री शिक्षित तो दो परिवार
  • शिक्षित स्त्री शिक्षा को लेकर सरकार के द्वारा की गई पहल
  • स्त्री शिक्षा का महत्व
  • उपसंहार

प्रस्तावना

स्त्री शिक्षा हमारे समाज के लिए अत्यंत उपयोगी हैं। क्योंकि हमारा दायित्व बनता हैं। कि वह भी समान अधिकार पुरुषों की भांति पा सके। स्त्रियों की शिक्षा को लेकर हम सभी को जागरूक होना चाहिए। क्योंकि एक स्त्री के पास भी अभूतपूर्व प्रतिभा होती हैं।उसकव भी समान अवसर मिलने पर वह अपना परचम समाज मे लहरा सकती हैं।

एक स्त्री शिक्षित तो दो परिवार शिक्षित

ऐसा हम हमेशा से सुनते आ रहे है। यदि हम एक महिला को शिक्षित करते है। तो वह दो परिवार को अपने शिक्षा से प्रभावित करती हैं। ऐसा इसलिए हैं। क्योंकि शादी से पहले एक स्त्री अपने मायके के लोगो को शिक्षा के द्वारा आगे बढ़ाती हैं। परन्तु शादी होने के पश्चात वह ससुराल पक्ष पर भी अपने व्यक्तिव से प्रभावित करती हैं।

यह हम सभी के लिए बहुत ही जरूरी हो जाता हैं। कि महिलाओं की शिक्षा के प्रति हम साभि जागरूक हैं। और अपने समाज की सभी स्त्रियों को शिक्षित करे।क्योंकि एक राष्ट्र की तरक्की में जितना पुरुषों का हाथ होता हैं। उतना ही स्त्रियों का भी हाथ होता हैं।प्राचीन काल से लेकर आज तक महिलाओं ने अपने हुनर के बल पर बहुत ही बड़े मुकाम हासिल की हैं।वर्तमान समय मे हमने मंगल यान की सफलता में स्त्रियों के नाम का जिक्र सुना ही होगा।

स्त्री शिक्षा को लेकर सरकार के द्वारा की गई पहल

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का आरम्भ 22 जनवरी 2015 को पानीपत , हरियाणा में चालू किया हैं। इसका उद्देश्य था कि महिलाओं के गिरते हुए लिंगानुपात को सही स्तर पर लाकर लड़कियों की सुरक्षा , शिक्षा का उचित प्रबंध किया जाए।

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना – कस्तूरबा ग़ांधी आवासिय योजना सर्व शिक्षा अभियान को बढ़ावा देने के लिए देश भर में 750 आवासीय स्कूल को खोलने के लिए कतुरबा गांधी आवासित योजना को चालू किया गया था। इस योजना के अंतर्गत ऐसे ग्रामीण क्षेत्रो में शिक्षा के स्तर को सुधारने का कार्य किया जाता था। जहां पर महिलाओं की साक्षरता दर बहुत ही कम है।

नारी शिक्षा का महत्व

प्राचीन समय से लेकर वर्तमान समय में नारी शिक्षा का बहुत है। जिसे हम नीचे दी गयी पक्तियों के माध्यम से समझ सकते है।

1.किसी भी राष्ट्र की प्रगति की खातिर नारी को शिक्षित होना अति आवश्यक हैं। क्योंकि यदि आपको किसी भी राष्ट्र की प्रगति को आंकना हैं। तो यह आवश्यक हैं। कि आप वहां की महिला साक्षरता दर को देखे।

2.नारी शिक्षा होने पर महिलाओं समाज मे चल रही विभिन्न प्रकार की कुरीतियों के प्रति सजग रहेगी। जिससे वह समय आने पर अपने हक की लड़ाई को लड़ सकेगी।

3.नारी शिक्षित होने पर वह समाज मे अपना उचित स्थान पा सकती थी। प्राचीन काल मे हम यह देखते थे। ज्यादातर नारियों को कार्य सिर्फ गृहस्थी योग्य ही होता था।

4.एक नारी के शिक्षित होने पर वह भी पुरुषों की भांति हर एक क्षेत्र में अपना परचम लहरा सकती हैं। वह एक लेखक, सैनिक, डॉक्टर ,समाजसेविका, आईएएस ऑफिसर सब कुछ बन सकती हैं।

5.एक नारी के शिक्षित होने पर वह आत्मनिर्भर हो सकेगी। साथ साथ वह अपने जीवन का निर्वहन खुद करने योग्य होगी। ताकि कोई भी व्यक्ति उसको अपनी दासी का विभिन्न प्रकार के विचारों के माध्यम से उसे प्रताणित न कर सके।

उपसंहार

आज कल हम यह देखते हैं। समाज मे विभिन्न प्रकार के जघन्य अपराध स्त्रियों से सम्बंधित होते है। और समाज के बहुत से व्यक्ति इसमे स्त्रियों की ही गलतियां मानते है। परन्तु यह बिल्कुल ही गलत हैं। हमारे यह दायित्व बनता हैं। हम स्त्री के साथ साथ पुरुषों को भी इन सब चीजो के प्रति जागरूक कर। ताकि हर एक नारी भी स्वतंत्र रूप से , निर्भीक ढंग से समाज से कदम से कदम मिला कर पुरुषों के साथ चल सके।

नारी शिक्षा पर 10 लाइन

नारी शिक्षा पर 10 लाइन निम्नलिखित हैं।

1.महिलाओं को शोषण और समाज मे सभी प्रकार की सुविधाएं प्राप्त करने के लिए नारी शिक्षा की अति आवश्यकता है।

2.आजकल हम यह देखते हैं विभिन्न प्रकार की कुरुतिया और प्रथाएं हमारे समाज मे विद्यमान है। इन कुरूतियो और प्रथाओं से नारी को बचाने के लिए नारी शिक्षा अति आवश्यक हैं।

3.नारी शिक्षा के द्वारा ही एक राष्ट्र की प्रगति सम्भव हैं।

4.आजकल भारत नारी शिक्षा में प्रगति कर रहा हैं। जिस कारण से महिलाएं हर एक क्षेत्र में अपना परचम लहरा रही हैं।

5.एक स्त्री बच्चे की सर्वप्रथम शिक्षिका होती हैं। जो बच्चे को उचित शिक्षा और साथ ही साथ अच्छा मार्गदर्शन प्रदान कर उसे देश का भावी नागरिक बनाती हैं।

6.महिलाओं को आत्मनिर्भर करने तथा अपने आप से अच्छा जीवन निर्वहन करने हेतु नारी शिक्षा अति आवश्यक हैं।

7.भारत सरकार इस क्षेत्र में कई कार्यक्रम चला रही हैं। जिसमे एक बेटा बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना भी हैं।

8.सावित्री बाई फुले भारत की प्रथम महिला शिक्षा , और समाज सुधारिका थी। ज्जिन्होने देश को प्रगति के रास्ते मे ले जाने में असीम योगदान दिया।

9 . एक शिक्षित नारी विभिन्न प्रकार की समस्याएं जो उसके जीवन मे आती हैं।उनसे आसानी से निकल सकती हैं।

10 . नारी शिक्षा के माध्यम से ही स्त्रियां समाज मे अपना उचित स्थान पा सकती हैं।

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी नारी शिक्षा पर निबन्ध , Womens education essay in hindi जानकारी आपको काफी पसंद आई होगी। यदि नारी शिक्षा पर निबन्ध , Womens education essay in hindi जानकारी आपको पसन्द आयी हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Tages – नारी शिक्षा का महत्व पर निबंध हिंदी में,नारी शिक्षा का महत्व निबंध हिंदी में,नारी शिक्षा पर निबन्ध हिंदी में ,नारी पर निबंध हिंदी में, Womens education essay in hindi, hindi essay on women education, naari siksha essay in hindi, नारी शिक्षा पर निबन्ध लिखिए, नारी शिक्षा पर निबन्ध

Leave a Comment