शहीद दिवस पर निबंध – शहीद दिवस कब क्यों और कैसे मनाया जाता है?

शहीद दिवस- भारत को स्वतंत्रता दिलाने के लिए समय समय पर भारत के सपूतों ने अनेक बलिदान दिए । उन्ही बलिदानों में से एक है भगत सिंह ,सुखदेव ,और राजगुरु का बलिदान जिसे हम कभी नही भूलते । उन्होंने हमारे देश को स्वतंत्रता दिलाने के लिए अनेक संघर्ष किये ,और देश की खातिर हँसते हँसते फाँसी के फंदे पर झूल गए ।

23 मार्च 1931 को भगत सिंह , सुखदेव और राजगुरु को फाँसी की सजा सुनाई गई । इसी दिन को हम शहीद दिवस के रूप में मनाते है । शहीद दिवस वैसे तो कई दिनों में मनाया जाता हैं । परंतु लोगो के बीच मे सबसे ज्यादा लोकप्रिय तिथि जो मानी जाती है वह 23 मार्च 1931 को । इस दिन ही शहीद दिवस मनाया जाता है

shahid diwas
shahid diwas

Shahid diwas kab manaya jata hai, shahid diwas date in india, shahid diwas essay in hindi,shahid diwas of india, shahid diwas par speech, shahid diwas photo, shahid diwas chitra,shahid diwas in india, shahid diwas nibandh,shahid diwas mahatma gandhi, shahid diwas bhagat singh,shahid diwas kyu manaya jata hai, shahid diwas par lekh,shahid diwas par jankari hindi me..martyr meaning in hindi

भारत में राष्ट्रीय स्तर पर शहीद दिवस कब मनाया जाता हैं ?

शहीद दिवस कई दिन मनाया जाता हैं,और हर दिन का अपना अलग अलग कारण है जो निम्न हैं-

  • 30 जनवरी को गांधी जी की गोडसे ने गोली मार कर हत्या कर दी थी । इसीलिए इस दिन को भी शहीद दिवस के रूप में मनाते हैं ।
  • 23 मार्च 1931 – इस तिथि को भगत सिंह , राजगुरु और सुखदेव को फाँसी दी गयी थी ।
  • 19 नवम्बर को रानी लक्ष्मी बाई के जन्मदिन के दिन भी शहीद दिवस मनाया जाता हैं ।
READ MORE ::  बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ पर निबन्ध,Beti bachao aur beti padhao essay in hindi

शहीद दिवस क्यों मनाया जाता हैं ?

शहीद दिवस क्यों मनाया जाता हैं ? इसके पीछे का कारण है 23 मार्च 1931 को भगत सिंह राजगुरु और सुखदेव को फाँसी की सजा दी गयी थी । इस वजह से ही शहीद दिवस मनाया जाता हैं ।

अग्रेजो के बढ़ते हुए अत्याचार से सबसे पहले भगत सिंह ने लौहार में सांडर्स की गोली मार कर हत्या कर दी। उसके बाद “पब्लिक सेफ्टी ” एवं ” ट्रेड डिस्ट्रीब्यूट बिल ” के विरोध में भगत सिंह ने सेंट्रल असेम्बली में बम फेक दिया था । जिसके बाद उनको गिरफ्तार कर दिया गया और 24 मार्च 1931 को फाँसी की तिथि निर्धारित की गई ।

shahid diwas photo chitr
Bhgat singh sukhdev rajguru shahid diwas

परन्तु उससे एक दिन पहले ही उनको और उनके साथियों को रात में ही फाँसी में चढ़ा दिया गया । और उनके शवो को उनको घर वालो को ना सौप कर सतलज नदी के किनारे जला दिया गया था । तभी से 23 मार्च को हम सभी शहीद दिवस मानते हैं

Shahid diwas kab manaya jata hai, shahid diwas date in india, shahid diwas essay in hindi,shahid diwas of india, shahid diwas par speech, shahid diwas photo, shahid diwas chitra,shahid diwas in india, shahid diwas nibandh,shahid diwas mahatma gandhi, shahid diwas bhagat singh,shahid diwas kyu manaya jata hai, shahid diwas par lekh,shahid diwas par jankari hindi me..martyr meaning in hindi hmj

शहीद दिवस कैसे मानते हैं?

शहीद दिवस पर 30 जनवरी को भारत के प्रधानमंत्री , राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति सभी नई दिल्ली में राजघाट में उपस्थिति होते है । और सभी महात्मा गांधी को पुष्प अर्पित करते है ।

READ MORE ::  भ्रष्टाचार पर निबंध हिंदी में, essay on corruption in hindi

उसके पश्चात 20 मिनट का मौन रखा जाता हैं । और फिर वहां पर उपस्थित लोगों के द्वारा गीत और भजन गाये जाते है। भारत के अन्य शहीदों के स्मृति के रूप में राष्ट्रीय स्तर पर एक से अधिक शहीद दिवस मनाए जाते है । राष्ट्रीय स्तर पर इसे सर्वोदय दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की गई हैं ।

शहीद दिवस पर विशेष -भगत सिंह का आखिरी पत्र

भगत सिंह ने अपने आखिरी समय मे अपने देशवासियों के लिए एक पत्र लिखा था यह पत्र 23 मार्च 1931 तारीख के ठीक एक दिन पहले लिखा गया था।

shahid diwas
shahid diwas

उनके द्वारा लिखा गया पत्र –
” साथियों स्वाभाविक हैं कि जीने की इच्छा मुझसे भी होनी चाहिए । मैं इसे छिपाना नही चाहता । लेकिन मैं एक शर्त पर जिंदा रह सकता हूँ , कि कैद होकर या पाबंद होकर न रहूं । मेरा नाम हिंदुस्तान क्रांति का प्रतीक बन चुका हैं । क्रांतिकारी दलों के आदर्शों ने मुझे बहुत ऊंचा उठा दिया हैं । इतना ऊँचा की जीवित रहने की स्थिति में मैं इस से ऊंचा नही हो सकता था ।

READ MORE ::  Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध

मेरे हँसते हँसते फांसी पर चढ़ने की सूरत में देश की माताएं अपने बच्चों में भगत सिंह की उम्मीद करेंगी । इस से आजादी के लिए कुर्बानी देने वालो की तादाद इतनी बढ़ जाएगी कि क्रांति को रोकना नामुमकिन हो जाएगा । आजकल मुझे खुद पर बहुत गर्व हैं । अब तो बहुत बेताबी से अंतिम परीक्षा का इंतेजार हैं । कामना यह हैं कि यह और भी नजदीक हो जाये “

तो दोस्तों ये थे कुछ facts शहीद दिवस के बारे में इसे आप शहीद दिवस पर निबंध में लिखकर अपनी कक्षा में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। यदि आपको कोई तथ्य समझ न आया हो या फिर आपके पास शहीद दिवस से जुड़ी कोई जानकारी हो तो कमेंट करें।

और एक बात दिल पर हाथ रखकर बताइये क्या आप शहीद दिवस मनाते हैं?

Shahid diwas kab manaya jata hai, shahid diwas date in india, shahid diwas essay in hindi,shahid diwas of india, shahid diwas par speech, shahid diwas photo, shahid diwas chitra,shahid diwas in india, shahid diwas nibandh,shahid diwas mahatma gandhi, shahid diwas bhagat singh,shahid diwas kyu manaya jata hai, shahid diwas par lekh,shahid diwas par jankari hindi me..martyr meaning in hindi

Leave a Comment