National festival of india in hindi,भारत के राष्ट्रीय त्योहार

भारत के राष्ट्रीय त्योहार , National festival of india in hindi :: भारत त्योहारों का देश माना जाता हैं। यहां पर कुछ दिनों के अंतराल में कोई न कोई त्योहार अवश्य आता हैं। परन्तु कुछ ऐसे दिनों को निश्चित किया गया हैं। जो राष्ट्रीय त्योहार के रूप में जाने जाते है। इन्हें राष्ट्रीय त्योहार इसलिए कहा जाता हैं। क्योंकि यह किसी धर्म या जाति विशेष के न होकर सम्पूर्ण राष्ट्र के त्योहार के रूप में जाने जाते है। भारत के राष्ट्रीय त्योहार की सूची में गणतंत्र दिवस , गाँधी जयंती और स्वतंत्रता दिवस आते है।इन सभी दिवसों पर सरकारी अवकाश घोषित किया गया हैं। विद्यालय और कॉलेज और दफ्तरों में विशेष प्रकार के कार्यक्रम या प्रतियोगिता आयोजित की जाती हैं। और मुख्य अतिथियों के माध्यम से इन दिन त्योहारों के महत्व से अवगत कराया जाता हैं। आज hindivaani आपको भारत के राष्ट्रीय त्योहार , National festival of india in hindi की जानकारी प्रदान करेगा। तो आइए शुरू करते है और जानते है – भारत के राष्ट्रीय त्योहार , National festival of india in hindi के बारे में।

भारत के राष्ट्रीय पर्व पर निबंध , Indian national festival in hindi ::

भारत के राष्ट्रीय त्योहार , National festival of india in hindi
भारत के राष्ट्रीय त्योहार , National festival of india in hindi

भारत का राष्ट्रीय त्योहार गणतंत्र दिवस , Republic day of india , 26 january ::

गणतंत्र दिवस हमारा राष्ट्रीय पर्व है। इस दिन प्रत्येक भारतीय देश की आजादी में अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीदों को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता है। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति राष्ट्र के नाम संदेश देते हैं ।जिसका सीधा प्रसारण हम रेडियो एवं दूरदर्शन के माध्यम से दे सकते हैं।इंडिया गेट विजयपथ नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस का समारोह विशेष तौर पर आयोजित किया जाता है। देश के अतिथि के रुप में किसी देश के राष्ट्राध्यक्ष को आमंत्रित किया जाता है।

READ MORE ::  Essay on population problem in hindi,जनसंख्या वृद्धि

राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद भव्य झांकी का आयोजन किया जाता है।इंडिया गेट से लेकर विजय पथ तक इसे देखने के लिए लाखों लोगों की भीड़ उमड़ती है।इस दिन राष्ट्रपति भवन में अनेक राजकीय समारोह आयोजित किए जाते हैं।विदेशी राजनयिक वरिष्ठ सम्मानीय लोग व पदक विजेता यहां एकत्र होते हैं।रात्रि को राष्ट्रपति भवन, सचिवालय, इंडिया गेट व अन्य राजकीय कार्यालय रंग-बिरंगी रोशनी से जगमगा उठते हैं।लाल किले के प्रांगण में कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाता है।

स्कूल में देशभक्ति एवम सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।राष्ट्रीय एकता का यह पर्व सभी धर्मों के लोगों को मिलजुल कर रहने में रहने में कर रहने में रहने में प्रेम भाईचारे का संदेश देता है। हमें अपनी स्वतंत्रता एवं अखंडता बनाए रखने का संकल्प लेना चाहिए।साथ ही साथ देश के विकास के लिए हमें हर संभव प्रयास करते रहना चाहिए।

उपयोगी लिंक – गणतंत्र दिवस पर निबन्ध हिंदी में

भारत का राष्ट्रीय त्योहार गाँधी जयन्ती , Gandhi jayanti national festival ::

2 अक्टूबर जिसे हम गाँधी जयंती के नाम से जानते है। उसे पूरे देश मे राष्ट्रीय पर्व के नाम से जाना जाता हैं। 2 अक्टूबर को गांधी जी का जन्मदिन होता हैं। गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1872 गुजरात के पोरबंदर नामक स्थान में हुआ था।इनका जन्म एक समृद्ध परिवार में हुआ था।इनके पिता जी का नाम मोहनदास करमचंद गांधी था जो पोरबंदर के दीवान थे। गांधी दिवस अर्थात 2 अक्टूबर को पूरे विश्व में अहिंसा दिवस के रूप में तथा भारत में गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है। इस दिन स्कूल कॉलेज में विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं और कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। जिसमें गांधीजी के विचारों साथ ही उनके द्वारा किए गए कार्य आज की जानकारी प्रदान की जाती है। 

READ MORE ::  मानवाधिकार पर निबन्ध ( Human rights essay in hindi)

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी विश्व के प्रसिद्ध महापुरुषों में से एक माने जाते हैं। वह एक प्रसिद्ध राजनेता के अतिरिक्त एक समाज सुधारक के रूप में भी समाज में अधिक योगदान दिए। उन्होंने जातिवाद ,छुआछूत, नशाखोरी, बहुविवाह ,पर्दा प्रथा तथा सांप्रदायिक भेदभाव को समाप्त करने के लिए अनेक प्रकार के कार्य किए हैं। गांधीजी भले ही आज हमारे बीच न हो। किंतु उनके विचार प्रसांगिक है। तथा पूरी दुनिया को रास्ता दिखाते हैं।गांधी जी के दर्शन के चार आधारभूत सिद्धांत है – सत्य, अहिंसा ,प्रेम और सद्भाव उनका विश्वास था।कि सत्य ही परमेश्वर है।उन्होंने सत्य की आराधना को भक्ति माना। 

दिल्ली में स्थित राजघाट में उनकी समाधि में भारत देश के उच्च अधिकारी तथा बड़े-बड़े नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए एकत्रित होते हैं। साथ ही विभिन्न प्रकार की सभाएं आयोजित किया जाती है। और उनके द्वारा किए गए कार्यों का संपूर्ण समाज में बखान किया जाता है। 2 अक्टूबर के दिन शराब की बिक्री में रोक रहती है।क्योंकि गांधी जी धूम्रपान नहीं पसंद करते थे।

भारत के राष्ट्रीय पर्व स्वतंत्रता दिवस , independence day indian festival ::

सदियों की परतंत्रता के बाद 15 अगस्त 1947 को जब भारत स्वतंत्र हुआ। तो भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उस दिन लाल किले के प्राचीर पर तिरंगा फहराया था।तब से हर वर्ष लाल किले पर इस दिन प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है।झंडे को 21 तोपों की सलामी दी जाती है।एवं रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। प्रधानमंत्री झंडा फहराने के बाद देश के नागरिकों को संबोधित करते हैं।इसके बाद सभी नागरिक देश के लिए कुर्बान हुए शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

स्वतंत्रता दिवस हमारा राष्ट्रीय पर्व है इसलिए इस दिन राष्ट्रीय अवकाश होता है।स्कूल, कालेज एवं सरकारी कार्यालयों के अतिरिक्त निजी कार्यालयों में भी ध्वजारोहण का कार्यक्रम होता है। साथ ही साथ विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं।इस दिन पूरा राष्ट्र हर्ष उल्लास जोश एवं उत्साह से इस पर्व को मनाता है।लोग एक दूसरे को स्वतंत्रता की बधाई देते हैं।स्कूल कालेजों में विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। तथा विभिन्न प्रकार की अतिथियों के द्वारा भाषण साथ ही साथ स्वतंत्रता में बलिदान देने वाले शहीदों की गाथा सुनाई जाती है।विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों के समापन के पश्चात मिठाइयों पुरस्कारों का वितरण किया जाता है।

READ MORE ::  Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध

भारत देश की अनेक विशेषताएं रही हैं। उन विशेषताओं में से एक विशेषता यह भी है।कि अनेक धर्मो अनेक जातियों और अनेक भाषाओं वाला यह देश अनेक विसंगतियों के बावजूद सदा एकता के सूत्र में बंधा रहा है। यहां अनेक जातियों का आगमन हुआ। किंतु धीरे-धीरे इसकी मूल धारा में विलीन हो गई।उनकी परंपराएं विचारधाराएं और संस्कृति इस देश के साथ एक रूप हो गई। भारत की यह विशेषता आज भी ज्यों की त्यों बनी हुई है।भारत के नागरिक होने के नाते हमारा कर्तव्य बनता है।कि हम इस भावना को नष्ट ना होने दें।साथ ही साथ इस को और अधिक दृढ बनाए इस कार्य में स्वतंत्रता दिवस की भूमिका सर्वाधिक महत्वपूर्ण है।इस के रूप में हम अपनी राष्ट्रीय एकता का जश्न मनाते हैं।हमारी राष्ट्रीय एकता का प्रतीक पर्व माना जाता है।

Conclusion – 

यहां पर हमने आपको विस्तृत रूप से भारत के राष्ट्रीय त्योहार , National festival of india in hindi के बारे में जानकारी प्रदान की हैं। आशा हैं कि आपको इसके बारे में पूरी जानकारी मिल भी गयी होगी। और यह आपको बहुत अधिक पसन्द आयी होगी। यदि यह जानकारी आपको पसन्द आई हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे। और साथ ही साथ हमे कमेंट बॉक्स में यह जानकारी जरूर दे कि भारत के राष्ट्रीय त्योहार , National festival of india in hindi  और क्या जोड़ा जा सकता हैं। धन्यवाद

Leave a Comment