Motivational kahani in hindi , प्रेणादायक कहानी हिंदी में

Motivational kahani in hindi :: हम देखते हैं कि हनरे जीवन मे कभी कभी बहुत ही निराशा आ जाती हैं। जिसके लिए हमे कहानियों मोटिवेशनल स्पीकर का सहारा लेना पड़ता हैं। जो हमारे मन मे एक नई उमंग भर देती हैं। ऐसी ही एक Motivational kahani in hindi आज Hindivaani आपके लिए लेकर आया है। जो आपके जीवन मे एक नई ऊर्जा का संचार करेगी। यदि आपको यह कहानी पसन्द आये तो हमे जरूर कमेंट बॉक्स में बताए। हम आपके लिए ऐसी और भी प्रेणादायक कहानियां लेकर आएंगे तो आइए शुरू करते है।

Motivational kahani in hindi , प्रेणादायक कहानी हिंदी में

Motivational kahani in hindi , प्रेणादायक कहानी हिंदी में
Motivational kahani in hindi , प्रेणादायक कहानी हिंदी में

एक बार की बात है कि एक व्यक्ति था। व्यक्ति के जीवन मे विभिन्न प्रकार की समस्याएं थी। जैसे कि उसके माता पिता का हमेशा बीमार रहना और उसका गरीबी में जीवन व्यतीत करना। वह इन सब चीजों से बहुत ही ज्यादा परेशान हो चुका था। फिर एक दिन क्या हुआ कि उसके गांव में एक महात्मा आये। उसने इन सारी समस्याओं के बारे में जानकारी महात्मा जी को दी।महात्मा बहुत ही ज्यादा बुद्धिमान और गुणी व्यक्ति थी। उनके पास हर समस्या का समाधान था। उन्होंने कहा बेटा आप परेशान मत होइए मेरे पास आपकी इस समस्या का भी समाधान था। परन्तु उन्होंने कहा कि शायद आप इस कार्य को पूरा न कर पाए। लेकिन व्यक्ति ने बड़े जोश से कहा कि नही महात्मा जी मैं इस गरीबी से दूर होने के लिए कुछ भी कर सकता हैं।

उपयोगी लिंक – Best motivational speech in hindi

महात्मा जी उस व्यक्ति को अपने साथ समुद्र के किनारे ले गए। और उस व्यक्ति को वहां पड़े बहुत सारे कंकडों को देखने को कहा। और उसे बताया कि इसमें से एक कंकड़ ऐसा है। जो किसी भी वस्तु को सोना बनाने की क्षमता रखता हैं। यदि तुम इस कंकड़ को ढूढ़ लोगे तो इससे तुम्हारी गरीबी आसानी से दूर हो जाएगी। और महात्मा जी ने उस कंकड़ की एक खासियत भी बताई। की जब वह कंकड़ आपके हाथ मे आएगा तो गर्म महसूस होगा। व्यक्ति को यह कार्य बहुत आसान लगने लगा। उसने सोचा यह कुछ ही दिन की तो बात हैं।वह उस कार्य को करने लगा ।

वह कंकड़ को उठाता उसे अच्छे से परखता और फिर उसे समुद्र में फेंक देता। यह क्रम काफी दिनों तक चलता रहा। परन्तु अभी तक वह महत्वपूर्ण कंकड़ व्यक्ति को नही मिला। दिन बीतते गए और महीने भी यह कार्य निरन्तर चल रहा था। अब व्यक्ति की आदत हो गयी थी कि वह कंकड़ को बिना परखे ही समुद्र में उठा कर फेंक दी रहा था। वह कार्य बहुत तेजी से कर रहा था। परन्तु कंकड़ को नही परख रहा था। फिर एक दिन ऐसा आया कि उसके हाथ मे वह कंकड़ आया। परन्तु वह अपनी आदत की वजह से बिना परखे उस कंकड़ को भी समुद्र में फेंक दिया। और फेकने के तुरंत बाद कि देखा कि उसे गर्म महसूस हुआ है। अब व्यक्ति बहुत निराश हुआ।और उसके पास पछताने के सिवा कुछ नही था।

Motivational kahani in hindi से सीख::इस कहानी से हमे एक सीख जरूर लेनी चाहिए।कि हमे हर एक दिन को अपने जीवन का महत्वपूर्ण दिन मानना चाहिए। क्योंकि जिस दिन आप सभी दिन को महत्वपूर्ण न समझ कर उन्हें ऐसे ही जाने देंगे। तो एक दिन ऐसा भी आएगा जिस दिन आपके पास एक दिन अच्छा अवसर लेकर आएगा। उस दिन को आप बिना परखे ही जाने देंगे। फिर आपके पास पछताने के सिवा कुछ भी नही रहेगा। इसलिए जिंदगी के हर एक पल को हमे महत्वपूर्ण समझना चाहिए। क्योंकि हर दिन एक नई किरण के साथ हमारे जीवन मे एक नया अवसर लाता हैं।

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी Inspirational story in hindi आपको काफी पसंद आई होगी। यदि Motivational story for students in hindi आपको पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Leave a Comment