Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध

Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध :: पुस्तके का महत्व हमारे जीवन मे कभी कम नही हो सकता हैं। यह निरन्तर हमारे लिए एक मित्र की भांति बहरे जीवन मे भूमिका निभाती हैं। इसलिए हिंदीवानी आज आपके लिए Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध लेकर आये है। इसको पढ़ने के बाद आपको कॉलेज और स्कूल में यदिकभी essay on importance of books in hindi लिखने को आएगा तो आपको यह लिखने में बहुत ही अधिक आसानी होगी।

Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध

Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध
Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध

प्रस्तावना

पुस्तके हमारे जीवन मे एक अच्छे मित्र की तरह होते हैं। जो हमारे खाकी और अकेले समय मे हमारे साथ होती हैं। साथ ही साथ हमे परेशानियां होने पर विभिन्न प्रकार की पुस्तकें हमे मोटिवेट करती हैं। एक प्रकार से देखा अजय तो पुस्तके रत्न से भी अधिक महत्वपूर्ण होती हैं। जो हमारे अंदर की छिपी हुई प्रतिभा को निखारती हैं। यह जीवन का सच हैं कि जो लोग अच्छी पुस्तके नही पढ़ते है। उन्हें एक अच्छा ज्ञान नही प्राप्त होता हैं। जिस वजह से वो जीवन के कई पहलुओं से परे रहते है। पुस्तके पढ़ने का सबसे अच्छा फायदा यह हैं कि हम अपने जीवन भर में जितना ज्ञान प्राप्त करते है। वो हमारे कठिन समय से बाहर निकालने में मदद करती हैं।

इसीलिए यदि हम खाली हैं तो हमे पुस्तके अवश्य पढ़नी चाहिए क्योंकि हर पुस्तक से हमे कुछ न कुछ ज्ञान की प्राप्ति अवश्य होती हैं। प्रायः हम देखते हैं कि बाल्यकाल में बच्चों को पुस्तके पढ़ने का बहुत ही अधिक शौक होता हैं। परन्तु उनके पास ज्यादा पुस्तको की उपलब्धता नही हिती हैं। इस वजह से उनका यह शौक धीरे धीरे कम हो जाता हैं। इसीलिए यदि बच्चों में हमे अच्छी आदतों के विकास करना है। तो हमे अपने बच्चों को शुरुवात से ही अच्छी पुस्तकें उपलब्ध करानी चाहिए।जिसकी वजह से उनके ज्ञान में अच्छी व्रद्धि होगी।

उपयोगी लिंक – हमारे जीवन मे शिक्षा का महत्व

संस्कृति की धरोहर –

प्राचीन काल के विभिन्न प्रकार के विद्ववानों ने अपने ज्ञान को कई प्रकार की पुस्तकों में समाहित किया है। इसलिए यदि हम संस्कृति की जानकारी चाहिए तो हमे पुरानी पुस्तको को जरूर ही पढ़ना चाहिये। वैदिक साहित्यों से हमे उस काल के सामाजिक आर्थिक और राजनीतिक ज्ञान की जानकारी प्राप्त होती हैं। विश्व की किसी भी प्रकार की संस्कृति के विकास में पुस्तको का महत्वपूर्ण योगदान था। मध्यकाल में पुनर्जागरण काल मे भी पुस्तको की बहुत ही अधिक भूमिका थी। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में पुस्तको ने बहुत अधिक भूमिका निभाई थी। इस संदर्भ में सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने कहा हैं कि -“पुस्तके वे साधन हैं, जिनके माध्यम से हम विभिन्न संस्कृतियों के बीच पुल का निर्माण कर सकते है।”

पुस्तके शिक्षा का प्रमुख साधन –

शिक्षा देने के लिए पुस्तको एक प्रमुख सधान है। इसके बिना शिक्षण प्रक्रिया नामुमकिन हैं। क्योंकि इसके बिना शिक्षण प्रक्रिया का चलनस नामुक्कीन हैं। जो शिक्षण प्रक्रिया के तीन सधान हैं छात्र अध्यापक और पाठ्यक्रम । और यदि पाठ्यक्रम के अंतर्गत पुस्तके नही होगी तो यह सम्भव नही हैं।पुस्तके बच्चों के स्वाध्याय करने के लिए प्रेरित करती हैं। यह बच्चों में सृजनात्मकता का विकास करती हैं।साथ ही साथ यह हमारे लिए मनोरंजन का अच्छा साधान हैं।

आधुनिक युग मे पुस्तको का प्रचलन –

आधुनिक युग सूचनाओं का युग हैं। आजकल इंटरनेट का प्रचलन हैं। जो हमारी जिंदगी को बहुत ही आसान हो गया हैं। पुस्तको का महत्व इसकी वजह से कम बिल्कुल नही हुआ है। क्योंकि यहां पर जो भी ज्ञान उपलब्ध हैं। वह सब पुस्तको से अर्जित किया हुवा ही हैं। बस आजकल पुस्तको का फॉर्मेट चेंज हो गया हैं। आजकल हमे पुस्तके पीडीएफ के रूप में मिलती हैं । पीडीएफ के रूप में पुस्तको इंटरनेट में उपलब्ध होने के कारण यह सब व्यक्तियों तक बहुत ही आसानी से उपलब्ध हो पाती हैं। साथ ही साथ इंटरनेट में उपलब्ध ज्ञान कभी भी खत्म होने वाला नही होता हैं। इसलिए पुस्तको का महत्व हमारे जीवन मे कभी भी कम नही हो सकता हैं। यह हमारे जीवन मे हर समय उपलब्ध रहेगी। वह चाहे कोई भी युग आ जाये। या तो पुस्तके डिजिटल रूप में उपलब्ध रहेगी। या फिर हार्ड कॉपी के रूप में।

उपसंहार

कुछ लोगो का ऐसा मानना हैं कि इंटरनेट आने की वजह से ई पुस्तको का प्रचलन बहुत ही अधिक हुवा हैं। जिसकी वजह से पुस्तको का महत्व बहुत ही अधिक कम हुआ है। परन्तु यह मानना बिल्कुल भी सही नही हुआ है। क्योंकि इंटरनेट से पुस्तके प्राप्त करने के लिए हमे इंटरनेट के आवश्यकता हमेशा ही पड़ती हैं। इसके बिना इसको प्राप्त करने के बहुत ही ज्यादा मुश्किल होती हैं। वास्तव में देखा जाए तो ई पुस्तको की वजह से पुस्तको का महत्व और भी अधिक बढ़ा हैं। क्योंकि इनकी उपलब्धता बहुत ही आसानी से हर किसी के पास होती हैं। जिसकी वजह से अब पुस्तके और भी अधिक लोग पढ़ते हैं। और हम सभी यह जानते है। कि पुस्तके का ही एक रुओ ही ई पुस्तक हैं। इसलिए पुस्तको का महत्व हमारे जीवन मे कभी भी कम नही हो सकता हैं।

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध आपको पसंद आई हिगी। यदि आपको Importance of books essay in hindi , पुस्तको का महत्व पर निबन्ध दी गयी जानकारी पसन्द आयी हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Leave a Comment