Hindi short stories with moral for kids : लालची बिल्ली

Hindi short stories with moral for kids – अक्सर हम यह देखते हैं। कि छोटे बच्चों को कहानियां बहुत पसंद होती हैं। वह कहानियां सुनने के लिए आपके पास बहुत ही समय तक बैठे रहते है। और हमे बच्चो को कहानियां सुनानी भी चहिए । साथ ही साथ उस कहानी के माध्यम से हमे संदेश भी प्रदान करना चाहिए। तो आज hindivaani आपके लिए लेकर आया है – Hindi short stories with moral for kids।

हमे उम्मीद हैं कि आप इस कहानी को पढ़ कर बहुत ही अच्छा महसूस करेंगे। और यदि आपको यह कहानी पसन्द आये तो हमे कॉमेंट बॉक्स में लिख कर इसके बारे में जानकारी जरूर प्रदान करेंगे।तो आइए शुरू करते हैं। और पढ़ते हैं –शिक्षाप्रद कहानी

Hindi short stories with moral for kids

Hindi short stories with moral for kids

एक बार की बात है कि एक राज्य में एक बूढ़ा व्यक्ति था। बूढा व्यक्ति के पास कोई भी सन्तान नही थी। और उसकी पत्नी की मृत्यु भी कुछ दिन पहले हो चुकी थी। जिस वजह से वह पूरे घर मे अकेले रहा करता था। अकेले पन की वजह से वह अपने साथी के रूप में एक बिल्ली को अपने घर पर लाता हैं। बिल्ली बहुत छोटी थी। धीरे धीरे वह बड़ी होती गयी।

READ MORE ::  inspirational Story In Hindi , प्रेरणादायक कहानी हिंदी में

परन्तु बाद में बूढ़े व्यक्ति के पास कमाने के लिए कोई साधन नही था। साथ ही साथ उसके शरीर में इतनी ताकत भी नही बची थी कि वह कोई कार्य करके कुछ पैसे कमा सके।
जिसके कारण से कुछ समय पश्चात वृद्ध को सूखी रोटियां और दलिया खा कर काम चलाना पड़ा। और उसके साथ साथ बिल्ली को भी यही खाना पड़ रहा था। बिल्ली अब दुबली पतली हो चुकी थीं और वह इस दलिया और सूखी रोटियां खा कर तंग आ चुकी थी।

एक दिन बिल्ली बाहर टहल रही थी उसने देखा कि सामने वाले घर पर एक बिल्ली हैं। उसकी सेहत देख कर वह अचंभित रह गयी । क्योंकि वह बहुत ही ज्यादा मोटी थी। उसके मन मे रहा नही गया। उसने उस मोटी बिल्ली से प्रश्न किया। की बहन और इतनी कैसे तंदुरुस्त हो। बिल्ली ने बताया कि मुझे भी मेरे घर से बहुत अच्छा खाना नही मिल पाता हैं। परन्तु कुछ दिनों पहले मुझे एक एक साथी ने हमारे राजा के दरबारमे ले गयी।

Also read – : चालक विद्यार्थी और उसकी सूझ बुझ , शिक्षाप्रद कहानी

राजा के दरबार में बहुत अधिक पकवान होते है। वहां पर हम सभी लोग खाने की टेबल के नीचे छिप जाते है। जिसके पस्चात खाने के समय जो भोजन टेबल के नीचे गिरता हैं। उसे हम बड़े चाव से खाते है। वह बहुत ही स्वादिष्ट होता हैं। और हम तभी से तंदुरुस्त हो गए है।

READ MORE ::  प्यासे कौवे की कहानी, thirsty crow story in hindi

बिल्ली को रहा नही गया उसने कहा क्या आप मुझे भी राजा के दरबार मे ले जॉयेगी। मोटी बिल्ली ने तरस खा कर उसको हा बोल दिया और कल सुबह उसे राजा के दरबार मे ले जाने का वादा किया। यह पूरी बात वृद्ध सुन रहा था ।वृद्ध ने बिल्ली को समझाया कि तुम यही मेरे घर ही बचा कुचा खा कर सन्तोष करो । बहुत अधिक लालच मत करो परन्तु बिल्ली नही मानी । वह दूसरे दिन उस मोटी बिल्ली के साथ राजा के दरबार मे चुपके से पहुची।

परन्तु एक दिन पहले ही राजा के दरबार मे बहुत सारी बिल्लियां घुस आए थी जिसकी वजह से राजा का एक दिन का पूरा खाना बर्बाद हो गया था। जिससे राजा नाराज होकर उसने अपने सभी सिपाहियों को आदेश दिया था। की यदि आपको कोई भी बिल्ली आज दिखे तो उसे मौत के घाट उतार देना।

दोनो बिल्लियां राज महल पहुची । उसके बाद पता नही किस प्रकार से मोटी बिल्ली को राजा की यह बात पता चल गई। और वह वहां से भाग निकली। परन्तु पतली वाली बिल्ली राजा के खाने के टेबल के नीचे छिप गए। राजा के सिपाही को वह अब दिख चुकी थी। उसने बिल्ली को पकड़ लिया। और गला दबा कर उसे मौत के घाट उतार दिया।

READ MORE ::  Hindi short story with moral for kids , दुष्ट बिल्ली की कहानी

Story in hindi से शिक्षा –

इस कहानी को पढ़ने के पश्चात हमे एक चीज का गयं यह जरूर मिलता हैं। कि लालच बुरी बला होती हैं। और लालच के चक्कर मे हम कभी कभी नुकसान का भी सामना कर सकते हैं। इसलिए हमें मेहनत और ईमानदारी से किसी भी कार्य को करने का प्रगास करना चाहिए। ताकि उसका हक सार्थक फल मिल सके।

फाइनल वर्ड –

आशा हैं कि हमारे द्वारा जो वृद्ध और बिल्ली की Hindi short stories with moral for kids आपको उपलब्ध कराई गई होगी। वह आपको बहुत ही अधिक पसन्द आयी होगी। यदि आपको यह शिक्षाप्रद कहानी पसन्द आयी हो। तो इसे अपने दोस्तों से शेयर करना न भूले। साथ ही साथ यदि आपके पास कली ऐसी मजेदार कहानी हो तो हमे ईमेल में जरूर सेंड करे। हम उसे आपके नाम के साथ अपने साइट में इसे प्रकाशित करेंगे। धन्यवाद

Leave a Comment