भारतीय किसान पर निबन्ध , Essay on indian farmer in hindi:

भारतीय किसान पर निबन्ध , Essay on indian farmer in hindi:: आज का hindivaani का टॉपिक हैं। भारतीय किसान पर निबन्ध , essay on indian farmer in hindi. आज हम आपको भारतीयों किसानों से सम्बंधित साभि प्रकार की जानकारी आपको देंगे। जिसके अंर्तगत आपको भारतीय किसानों की दुर्दशा, भारतीय किसानों की आर्थिक समस्या पर निबन्ध, भारतीय किसान पर निबन्ध प्रस्तावना सहित आदि की जानकारी दी जाएगी।

भारतीय किसान पर निबन्ध , Essay on indian farmer in hindi

भारतीय किसान पर निबन्ध , Essay on indian farmer in hindi
भारतीय किसान पर निबन्ध , Essay on indian farmer in hindi

प्रस्तावना

भारतीय किसान जो हमारे भारत देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी हैं। भारतीय किसानों का भारत की अर्थव्यवस्था में 17 % योगदान हैं। परंतु जो किसान सम्पूर्ण भारत देश के पेट को भरते है। कभी कभी वही किसान के घर मे खाने के लिए कुछ भी नही होता हैं। भारत एक कृषि प्रधान देश शुरुवात से ही रहा हैं। यहां पर कृषि को एक व्यापार की भांति भी किया जाता हैं।

भारतीय किसानों की दुर्दशा –

भारतीय किसानों की आर्थिक बदहाली के बारे में हमने हमेशा ही सुना हैं। आजकल किसानों को अनाज उतपन्न करने में कई प्रकार की समस्याएं आती हैं। वातावरण के चक्र में बदलाव होने से उनकी फसल पूरी तरह बर्बाद हो जाती हैं। तो कभी कभी बरसात ना होने पर फसल अच्छी नही हो पाती हैं। और जिससे किसान जीविका चलाने में असमर्थ हो जाते है।

और इन्ही सब कारणों से पर इतनी चिंताओं से ग्रसित हो जाते है। कि उन्हें आत्महत्या तक करनी पड़ती हैं। इस तरह की खबरों को हम प्रतिदिन अखबारों में पड़ते आ रहे है। सरकार किसानों के प्रति बहुत कुछ योजनाएं लाती हैं। परंतु उन योजनाओं का साभि पूर्ण रूप से उन तक नही पहुच पाता हैं। जिस वजह से उनके जीवन के आर्थिक हाल में कोई भी सुधार नही हो पा रहा हैं।

भारतीय किसान पर निबंध लिखिएभारतीय किसान पर निबंध लिखें,भारतीय किसान पर निबंध 200 शब्दों में,भारतीय किसान पर निबंध हिंदी,किसान पर निबंध हिंदी में,,भारतीय किसान के बारे में निबंध,भारत में किसानों की समस्या पर निबंधभारतीय किसान की दुर्दशा,भारतीय किसान पर निबंध in hindi, ,किसानों की समस्या और समाधान पर निबंध,indian farmer essay in hindi

भारतीय किसान की समस्या –

भारतीय किसान की समस्या बहुत सारी हैं। उन्हें प्रतिवर्ष कई प्रकार की समस्यायों से गुजरना पड़ता हैं। आजकल का समाज प्रकति का दोहन करने में लगा हुआ है। परन्तु उसकव सुरक्षित करने के लिए कोई उपाय नही करता हैं। जिसका खामियाजा किसानों को प्राकृतिक आपदा के रूप में भरना पड़ता हैं। और उनकी फसल बर्बाद हो जाती हैं। आजकल के किसान की फसल अच्छी ना होने पर किसान को किसानी के साथ साथ अन्य व्यवसाय पर जरूर निर्भर होना पड़ता हैं। अगर वह निर्भर ना रहे तो उनका परिवार का भरण पोषण अछे से नही हो पायेगा।

शहिद दिवस पर निबन्ध

निष्कर्ष

आजकल के किसानों के लिए सरकार को और सजग रूप से उसकी उन्नति के लिए कई सारे प्रयास कर सके। जिससे कि उनकी आर्थिक स्तिथि में सुधार हो सके। और जिससे उनका बोझ कम हो सके। जिससे वो बिना चिंता के किसानी कर सके।

भारतीय किसान पर 10 लाइन –

भारतीय किसान पर 10 लाइन निम्नलखित हैं।

1.भारतीय किसान हमारे देश की रीढ़ की हड्डी हैं।

2.भारतीय किसान हमारे देश की अर्थव्यवस्था में 17 % योगदान देते है।

3.भारतीय किसान का मुख्य पेशा कृषि ही हैं।

4.भारतीय किसान का सहायक पेशा पशुपालन हैं।

5.पशुपालन की वजह से उनके जीवन मे काफी आर्थिक ररोप से मदद मिल पाती हैं।

6.वर्तमान समय मे भारतीय किसानों की आर्थिक स्तिथि सही नही है।

7.भारतीय किसानों का कृषि उपकरणों से काफी मदद मिलती हैं। परंतु सभी इनको खरीदने में असमर्थ होते है।

8.भारतीय किसानों के लिए लाल बहादुर शास्त्री ने ” जय जवान जय किसान “का नारा दिया था।

9.भारतीय किसान बैल के द्वारा खेत को जोतते हैं।

10.आजकल के किसान प्राकृतिक आपदा के कारण आर्थिक स्तिथि नही सुधार पा रहे है।

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको पसंद आई होगी। इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Tages- भारतीय किसान पर निबंध लिखिएभारतीय किसान पर निबंध लिखें,भारतीय किसान पर निबंध 200 शब्दों में,भारतीय किसान पर निबंध हिंदी,किसान पर निबंध हिंदी में,,भारतीय किसान के बारे में निबंध,भारत में किसानों की समस्या पर निबंधभारतीय किसान की दुर्दशा,भारतीय किसान पर निबंध in hindi, ,किसानों की समस्या और समाधान पर निबंध,indian farmer essay in hindi

Leave a Comment