दीवाली पर हिंदी निबन्ध|diwali essay in hindi

दीवाली पर हिंदी निबन्ध|diwali essay in hindi: बच्चों को अक्सर दीपावली पर निबंध लिखने के लिए दिया जाता है इसलिए आज hindivaani आपको दीपावली पर निबंध उपलब्ध कराएगी इसमें दीपावली क्यों मनाई जाती है? दीपावली कैसे मनाई जाती है ?दीपावली का महत्व क्या है ,आदि संपूर्ण जानकारी दीपावली से संबंधित आपको उपलब्ध कराई जाएगी

दीवाली पर हिंदी निबन्ध|diwali essay in hindi

दीपावली पर निबंध चाहिए दीपावली पर निबंध कक्षा 5,दीपावली पर निबंध कक्षा 6 ,मेरा पसंदीदा त्योहार दिवाली पर निबंध, दीवाली पर निबंध हिंदी में , दीवाली का महत्व ,दीवाली पर हिंदी एस्से, diwali essay in hindi, diwali festival essay in hindi,दीपावली पर महत्व, दीवाली क्यों मनाते है, दीवाली 2019 का शुभ मुहूर्त क्या है,,essay on dipawali in hindi,essay on diwali , hindi essay on diwali ,  दीवाली पर 10 लाइन लिखिए
दीपावली पर निबंध चाहिए दीपावली पर निबंध कक्षा 5,दीपावली पर निबंध कक्षा 6 ,मेरा पसंदीदा त्योहार दिवाली पर निबंध, दीवाली पर निबंध हिंदी में , दीवाली का महत्व ,दीवाली पर हिंदी एस्से, diwali essay in hindi, diwali festival essay in hindi,दीपावली पर महत्व, दीवाली क्यों मनाते है, दीवाली 2019 का शुभ मुहूर्त क्या है,,essay on dipawali in hindi,essay on diwali , hindi essay on diwali , दीवाली पर 10 लाइन लिखिए

दीवाली पर निबंध हिंदी में 【Short essay on diwali in hindi,diwali essay in hindi】

दीवाली हिन्दू धर्म के अलावा अन्य धर्म के लिए भी एक लोकप्रिय पर्व हैं। यह पर्व व्यक्ति राम जी के 14 वर्ष तक वनवास से वापस अयोध्या में आने की खुशी में मनाते हैं। इस दिन सभी लोग अपने घर को घी के दियो , मोमबत्तियां और झालरों से सजाते है। दूसरा मुख्य कारण पांडवों का 12 वर्ष का वनवास समाप्त कर वापस आने की खुशी,में दिवाली त्यौहार को मनाया जाता है।

साथ ही साथ सभी लोग नए नए परिधान पहनकर कर माँ लक्ष्मी की पूजा करते है। छोटे-छोटे बच्चे बहुत सारे पटाखों की खरीदारी करके और अतिशबाजी की खरीदारी करके रात्रि के समय अपने घर परिवार के साथ इन्हें फोड़ते हैं। साथ ही साथ घर पर अनेक पकवान बनते हैं। और आसपास के लोग और घर परिवार को लोग को घरों में आमंत्रित किया जाता है।और मिलजुलकर इस त्यौहार को मनाया जाता है।

यह त्यौहार आज की भाग दौड़ में हम एक दूसरे से मिलने का एक बहाना प्रस्तुत करता है।जिसके कारण हम वर्ष भर के बाद अपने परिवारिक जनों और प्रिय जनों से मिल पाते हैं। दिवाली त्यौहार कार्तिक अमावस्या को मनाया जाता है।इस दिन गहरा अंधकार होता है।जिस अंधकार के दिन को उन तीनों को प्रज्वलित करके प्रकाश में परिवर्तित कर दिया जाता है।

दीपावली पर निबंध चाहिए दीपावली पर निबंध कक्षा 5,दीपावली पर निबंध कक्षा 6 ,मेरा पसंदीदा त्योहार दिवाली पर निबंध, दीवाली पर निबंध हिंदी में , दीवाली का महत्व ,दीवाली पर हिंदी एस्से, diwali essay in hindi, diwali festival essay in hindi,दीपावली पर महत्व, दीवाली क्यों मनाते है, दीवाली 2019 का शुभ मुहूर्त क्या है,,essay on dipawali in hindi,essay on diwali , hindi essay on diwali , दीवाली पर 10 लाइन लिखिए

READ MORE ::  Essay on teachers day in hindi,शिक्षक दिवस पर निबन्ध हिंदी में,

दीवाली पर निबंध कक्षा 5,6,7,8,9,10. Diwali essay in hindi for Kids/child

प्रस्तावना

दीवाली एक ऐसा पर्व है। जो हमारे लिए अंधकार पर प्रकाश की विजय, असत्य पर सत्य की विजय, बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक हैं। यह हमारे लिए दीपो का उत्सव है। यह पर्व पांच दिन तक चलता है। सभी लोग एक दूसरे से मिलकर इस त्योहार को मनाते है।

दीवाली क्यों मनाते हैं?

दीवाली मनाने के वैसे तो बहुत कारण है। परन्तु प्रमुख कारणों की बात की जाए तो इसमें श्री रामजी से संबंधित है, जो कारण है।वह मुख्य है, पुराणों में कहा गया है कि श्री राम जी 14 वर्ष का वनवास काटकर इस दिन वापस अयोध्या नगरी पर लौटे थे। इस वजह से अयोध्या के लोगो के द्वारा उनके वापस आने की खुशी में घी के दिये जलाये गए थे।

तभी से इसे प्रकाश के त्योहार के रूप में पूरे भारतवर्ष में मनाया जाता हैं। यह त्योहार असत्य पर सत्य की जीत, अंधकार पर प्रकाश की विजय, बुराई पर अच्छाई की जीत, की खुशी में मनाया है। दूसरा प्रमुख कारण पांडवो के 12 वर्ष के वनवास के वापस आने की खुशी में भी इस पर्व को मनाया जाता है।

दीवाली कैसे मनाते है?

दीवाली प्रकाश पर्व का का मनाने की खास उत्सुकता लोगो मे होती है। इसके लिए सभी लोग बहुत दिनों से दीपावली पर्व का इन्तेजार करते है। दीवाली निम्नलिखित तरीके से भारत के अलावा अन्य देशों में मनाया जाता है।

दीवाली पर्व नजदीक आने पर लोग घर की सफाई करना चालू कर देते है। क्योकी ऐसा माना जाता है कि लक्ष्मी जी साफ जगहों में निवास करती है।

दीवाली पर्व मनाने के लिए लोग तरह तरह के नए नए परिधान की खरीदारी करते है। और साभि लोग उस दिन नए वस्त्र पहनकर माँ लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा अर्चना करते है।

इस दिन प्रत्येक व्यक्ति अपने घर मे घी के दिये जलाते है। और अपने घर पे घी के दियो को जलाकर अपने घर के साथ साथ अपने जीवन के भी अंधकार को नष्ट करने का प्रयास करते है।

READ MORE ::  Essay on population problem in hindi,जनसंख्या वृद्धि

वर्तमान समय मे लोग अपने घर मे बहुत सारी जलरो को सजावट करते है। और साथ ही साथ बहुत से आतिशबाजी को खरीदकर उसको छुड़ाते है। यह बच्चो से लेकर बुजुर्खो सभी तक खास लोकप्रिय है।

मॉरीशस में भी हिन्दू लोग बहुत रहते है। इस वजह से इस दिन सरकारी अवकाश वहां पर होता है।

मलेशिया में हिन्दू धर्म मे लोग काफी मात्रा में है। वहा के लोग इस दिन दूसरे धर्म के लोगो को भुला कर घर मे इस त्योहार को मानते है।

दीवाली 2019 कब है? दीवाली 2019 का शुभ मुहूर्त क्या है? when is diwali in 2019| diwali shubh muhurt 2019

दीवाली त्योहार प्रत्येक वर्ष कार्तिक अमावस्या को मनाया जाता है। इस वर्ष दीवाली 27 अक्टूबर को पड़ रही है। 27 अक्टूबर को दिन रविवार है। दीवाली 2019 का शुभ मुहूर्त 6 :44 मिनट से 8 :14 मिनट तक है।

दीवाली का महत्व (Importance of diwali)

हिन्दू धर्म मे दीवाली का खासा महत्व है। यह पर्व पांच दिनों तक चलता है। और हिन्दू वर्ग के साथ साथ अन्य धर्म के लोग इस त्योहार के लिए खासा उत्सुक होते हैं। आज की भाग दौड़ की जिंदगी में दीवाली पर्व में सभी व्यक्ति अपने घर मे जाते है। साथ ही साथ साभि लोग इसी बहाने अपने परिवरिकजनो से मिल पाते है।

इस दिन हिन्दू धर्म में व्यापारियों के लिए खास महत्व वाला त्योहार है। इस त्योहार से प्रत्येक व्यापारी अपना पुराना खाता बही का निपटारा कर नए खाता बही तैयार किये जाते है।

दीवाली के लिए आरती 【Diwali aarti】

ओम जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निशिदिन सेवत, हरि विष्णु विधाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता।
सूर्य-चंद्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

दुर्गा रुप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता।
कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

READ MORE ::  teacher important in hindi,हमारे जीवन मे शिक्षक का महत्व

उपसंहार

दीवाली वैसे तो प्रकाश का पर्व है। परंतु आज के वर्तमान समय मे यह प्रदूषण पर्व का रूप ले लिए है। व्यक्ति अपनी कुछ देर की खुशी के लिए प्रकृति को इतना नुकसान पहुचा रहा है। कि जिससे प्रदूषण बढ़ता ही जा रहा है। हमे इन साभि चीजों के लिए जागरूक होना चाहिए। और इन सब बातों के लिए अन्य लोगो को भी सजक करना चाहिए।

दीपावली पर 10 लाइने । दीवाली पर 10 लाइन लिखिए

1.दीपावली का त्योहार प्रकाश का त्योहार हैं। इस दिन लोग घरों में दीये जलाते है।

2.दीपावली का पर्व अंधकार पर प्रकाश की विजय , असत्य पर सत्य की विजय के प्रतीक के रूप में मनाया जाता हैं।

3.दीपावली के दिन लोग अच्छे अच्छे पकवान और नए नए परिधान को पहनते है।

4.दीपावली का त्योहार इसलिए मनाया जाता हैं। क्योंकि इस दिन भगवान राम 14 वर्ष का वनवास काट कर अयोध्या वापस लौटे थे।

5.इस दिन सभी लोग लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करते है।

6.दीवाली पर्व के अवसर पर लोग पटाखे ,फुलझड़ी आदि को जलाते है।

7.दीवाली के दिन लोग अपने रिश्तेदार पड़ोसियो को गिफ्ट ,मिठाइयां आदि भेट करते है।

8.दीवाली के कुछ दिन पहले से ही लोग घरों में सफ़ाई करते है।

9.दीवाली का त्योहार हर साल अक्टूबर और नवम्बर माह को मनाया जाता हैं।

10.इस दिन सभी लोग अपने घरों को झालरों, दीपको, मोमबत्तियां से दुल्हन की तरह सजा देते है।

दीपावली पर निबंध चाहिए दीपावली पर निबंध कक्षा 5,दीपावली पर निबंध कक्षा 6 ,मेरा पसंदीदा त्योहार दिवाली पर निबंध, दीवाली पर निबंध हिंदी में , दीवाली का महत्व ,दीवाली पर हिंदी एस्से, diwali essay in hindi, diwali festival essay in hindi,दीपावली पर महत्व, दीवाली क्यों मनाते है, दीवाली 2019 का शुभ मुहूर्त क्या है,,essay on dipawali in hindi,essay on diwali , hindi essay on diwali , दीवाली पर 10 लाइन लिखिए,दीपावली पर 10 लाइने । दीवाली पर 10 लाइन लिखिए।

आशा है कि हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको पसंद आयी होगी इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Leave a Comment