विसरण और परासरण में अन्तर , Difference between diffusion and osmosis in hindi

विसरण और परासरण में अन्तर ( Difference between diffusion and osmosis in hindi ) :: हम यह देखते हैं कि यदि हम किसी कमरे में धूपबत्ती और अगर बत्ती को जलाते है। तो पाते है कि पूरे घर मे इसकी सुगन्ध सब जगह पहुच जाती हैं। तो इसके पीछे का कारण हैं। विसरण। विसरण के अलावा भी एक क्रिया होती हैं। जिसे परासरण के नाम से जाना जाता हैं।

आज हिन्दीवानी आपको विसरण और परासरण में अंतर की जनाकारी प्रदान करेगा। जिसके अंतर्गत आपको हम यह भी बताएंगे कि विसरण किसे कहते है ? परासरण किसे कहते है। तो आइए शुरू करते है। और पढ़ते है – Difference between diffusion and osmosis in hindi

विसरण और परासरण में अन्तर ( Difference between diffusion and osmosis in hindi )

Difference between diffusion and osmosis in hindi

विसरण किसे कहते है? (What is diffusion in hindi )

ऐसी क्रिया जिसके द्वारा पदार्थ के हर अणु या आयन अपने अधिक सांद्रता वाले स्थान से कम सांद्रता वाले स्थान को गमन करते हैं विसरण कहलाती हैं।

READ MORE ::  कोशिका ,कोशिका सिद्धांत और कोशिका के प्रकार

वास्तव में देखा जाए तो एक पदार्थ के अणु या अयान का दूसरे पदार्थ में मिश्रण होता है।यह हर ओर होता है।और तब तक होता रहता है।जब तक कि सब और पदार्थों की सांद्रता बराबर ना हो जाए ।इस स्थिति को साम्य कहते हैं।यद्यपि इस समय भी अणु या अयान गति करते रहते हैं। किंतु यह गति समान मात्रा में होने के कारण प्रदर्शित नहीं होते हैं।

विसरण का महत्व ( Importance of diffusion )

जीव धारियों तथा वातावरण के मध्य ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड गैस का आदान-प्रदान मिश्रण द्वारा द्वारा द्वारा का आदान-प्रदान मिश्रण द्वारा द्वारा द्वारा होता है।
पौधों में वाष्पोत्सर्जन ,जड़ द्वारा जल तथा पोषक तत्व का अवशोषण विसरण विसरण द्वारा होता है।

परासरण किसे कहते है ( What is osmosis)

एक अर्द्ध पारगम्य झिल्ली या वरणात्मक पारगम्य झिल्ली के द्वारा होने वाला विसरण परासरण कहलाता हैं।

Also read : – दूरी और विस्थापन में अंतर हिंदी में बताइए ?

परासरण का महत्व ( Importance of osmosis )

पौधों में मूल रोम तथा पौधों के अन्य भागों जैसे जलीय पौधों में संपूर्ण शरीर से जल का अवशोषण परासरण द्वारा होता है।कोशिका की कोशिका में जल एवं अन्य पदार्थों का संचालन परासरण द्वारा होता है।परासरण द्वारा जड़ों में उत्पन्न मूल दाब के कारण पौधों में जल तथा घुलित पदार्थ तने में पहुंचते हैं।

READ MORE ::  डीएनए और आरएनए में अंतर (Differences between D.N.A and R.N.A in hindi)

विसरण और परासरण में अंतर  (Difference between diffusion and osmosis in hindi )

विसरण ( Diffusion ) परासरण ( Osmosis ) 
१. विसरण क्रिया सभी पदार्थों ठोस द्रव और गैस में हो सकती हैपरासरण केवल द्रव्य तथा उसमें विलेय पदार्थों में ही होता है।
२. विसरण करने वाले दोनों पदार्थों के मध्य किसी प्रकार की झिल्ली नहीं होती हैपरासरण के लिए दोनों धर्मों के मध्य मध्य अर्ध पारगम्य झिल्ली होती है।
३.विसरण सभी दिशाओं में होने वाली क्रिया हैपरासरण निश्चित दिशा या दिशा में होने वाली क्रिया है।
४.इस क्रिया में कोई विशेष ताबूत पन्ने नहीं होता हैपरासरण दाब उत्पन्न होता है जो विलयन की सांद्रता पर निर्भर करता है।
५.वास्तव में विसरण एक सामान्य भौतिक क्रिया है जो पदार्थों के स्वतंत्र कणों के द्वारा प्रदर्शित गतियों के कारण होती है।वास्तव में परासरण एक प्रकार से विसरण है ।जो एक अर्ध पारगम्य वरणात्मक पारगम्य झिल्ली की उपस्थिति में होता है।

फाइनल वर्ड – 

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी विसरण और परासरण में अंतर की जनाकारी आपको काफी ज्यादा पसन्द आयी होगी। यदि आपको Difference between diffusion and osmosis in hindi  की जानकरी आपको लोगो को पसन्द आयी हो। तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे। साथ ही साथ हमे कॉमेंट बॉक्स में लिख कर इस आर्टिकल के बारे में जनाकारी दे कि यह आर्टिकल पढ़ कर आपको कैसा लगा। धन्यवाद

Leave a Comment