डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त Dalton ka parmanu sidhant

आज हम कक्षा 9 के जिस टॉपिक को पढ़ने जा रहे है। उसका नाम हैं – डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त Dalton ka parmanu sidhant ।यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक माना गया हैं। जिसमे हमे कई प्रकार के प्रश्न देखने को मिलते है। आज हिन्दीवानी इस आर्टिकल में आपको डाल्टन का परमाणु वाद की विस्तृत जानकारी प्रदान करेगा। जिसके अंतर्गत आपको डाल्टन के प्रमनौ वाद की परिकल्पना और साथ ही साथ डाल्टन के परमाणु सिद्धान्त की विशेषता की भी जानकारी मिलेगी। तो आइए शुरू करते है और पढ़ते हैं – डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त , Dalton ka parmanu sidhant

डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त ( Dalton ka parmanu sidhant kya hain )

Dalton ka parmanu sidhant

इंग्लैंड के मैनचेस्टर के प्रसिद्ध शिक्षक जान डाल्टन ने सन 1808 ई में द्रव्यों की प्रकृति पर एक विस्तृत अध्ययन किया। और एक विशेष प्रकार का सिद्धांत हम सब लोगो के समक्ष प्रस्तुत किया।जिसे हम डाल्टन के परमाणु बाद के नाम से जानते है। उन्मद अपने सिद्धान्त में कुछ परिकल्पना को प्रस्तुत करते हुए यह कहा कि द्रव्य का निर्माण सूक्ष्म कणों से मिलकर हुवा हैं।

जिसमे उस द्रव्य के समस्त गन विद्यमान रहते है। उन्होंने इन कणों को रासायनिक अभिक्रिया में भाग लेने वाला अविभाज्य कण बताते हुए परमाणु नाम दिया। डाल्टन की परिकल्पना के आधार पर द्रव्य की संरचना , रासायनिक संयोग के नियमो तथा भौतिक एवं रासायनिक नियमो की गई। और उन्हें प्रयोगों के आधार पर प्रमाणित भी किया गया।

READ MORE ::  अम्ल किसे कहते है,अम्ल के प्रकार,Acid in hindi

डाल्टन के परमाणु सिद्धांत के अनुप्रयोग

 डाल्टन के परमाणु सिद्धांत के अनुप्रयोग निम्नलिखित हैं

1.डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त पदार्थ की संरचना की मूलभूत अवधारणा को प्रस्तुत करता हैं। इसके अनुसार परमाणु पदार्थ के निर्माण की सबसे छोटी इकाई होती हैं।

2.डाल्टन का परमाणु सिद्धांत उस समय तक ज्ञात रासायनिक संयोग के नियम की अवधारणा को समाहित करता है।

3.डाल्टन का परमाणु सिद्धांत भिन्न भिन्न तत्वों के परमाणु में भिन्नता को दर्शाता है।

4.यह सिद्धांत गुणित अनुपात के नियम की व्याख्या करता है।

डाल्टन का परमाणुवाद ( Dalton’s atomic theory in hindi )

उन्नीसवीं सदी के शुरुवात में सन 1808 में जान डाल्टन ने परमाणु सिद्धान्त के बारे में जानकारी प्रदान की। जिसे हम डाल्टन का परमाणु वाद के नाम से जाना जाता हैं।

डाल्टन के परमाणु वाद की परिकल्पना –

डाल्टन के परमाणु वाद की परिकल्पना निम्नलिखित हैं।

डाल्टन के परमाणु वाद के अनुसार –

  • तत्वों के सबसे छोटे कण को परमाणु कहा जाता है।
  • परमाणु अविभाज्य सूक्ष्म कण होते हैं।
  • एक ही तत्व के सभी परमाणु का द्रव्यमान आकार और आकृति समान होती है।
  • विभिन्न तत्वों के परमाणु का द्रव्यमान और आकार भिन्न-भिन्न भिन्न-भिन्न होता है।
  • परमाणु परस्पर पूर्णांक अनुपात में संयुक्त होकर योगिक बनाते हैं।
READ MORE ::  कोशिका ,कोशिका सिद्धांत और कोशिका के प्रकार

डाल्टन का परमाणु वाद रासायनिक संयोग के नियमों को समझाने में सफल रहा।परंतु यह देखा गया कि यह तत्वों की संयोजकता, परमाणु द्रव्यमान, रेडियो एक्टिवता को समझाने में असफल रहा है।इसके पश्चात वैज्ञानिक प्राउड की अवधारणा के अनुसार परमाणु मूल पदार्थ हाइड्रोजन के एकाधिक कणों से मिलकर बना है।

FAQS of Dalton’s theory in hindi

प्रश्न – परमाणु सिद्धान्त के प्रेणता कौन हैं ?

उत्तर – परमाणु सिद्धांत के प्रेणता जान डाल्टन को माना जाता हैं। जॉन डाल्टन ने सन 1808 ई में परमाणु सिद्धान्त दिया था।

प्रश्न – डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त किन नियमो पर आधरित हैं ?

उत्तर – डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त मुख्य रूप से रासायनिक संयोजक के नियम पर आधारित हैं।

प्रश्न – डाल्टन के परमाणु सिद्धान्त की विशेषता लिखिए ?

उत्तर – डाल्टन के परमाणु सिद्धान्त की विशेषता निम्नलिखित हैं।

1.तत्व अनेक सूक्ष्म कणों से मिलकर बना होता है।जिन्हें परमाणु कहते हैं। 

2.एक तत्व के सभी परमाणु आकार तथा गुणों में समान होते हैं।परंतु भिन्न-भिन्न तत्वों के परमाणु भिन्न भिन्न होते हैं। 

READ MORE ::  अनुप्रस्थ तरंग और अनुदैर्ध्य तरंग में अंतर Diffrence between transverse wave and longitudinal wave in hindi

3.परमाणु अविनाशी होते हैं।अर्थात रासायनिक अभिक्रिया में परमाणु न तो  उत्पन्न होते और ना ही नष्ट होते हैं।

4.विभिन्न तत्वों के परमाणु के गुण भी भिन्न-भिन्न पाए जाते हैं।

5.तत्वों के परमाणु परस्पर संयोग करके संयुक्त परमाणु निर्मित करते हैं। तथा आधुनिक शब्दों में संयुक्त परमाणु को अणु कहा जाता है।

6.निर्मित होने वाले संयुक्त परमाणु में परमाणुओं की आपेक्षिक संख्या और उनका प्रकार निश्चित होता है।

फाइनल वर्ड –

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गई डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त Dalton ka parmanu sidhant की जनाकारी आपको काफी पसन्द आयी होगी। यदि आपको डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त Dalton ka parmanu sidhant की जनाकारी आपको पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे। साथ ही साथ हमे कॉमेंट बॉक्स में लिख कर इसके बारे में जनाकारी अवश्य प्रदान करे।

यदि आपको डाल्टन के परमाणु वाद के भाँति अन्य कोई भी टॉपिक यदि पढ़ना हो। तो हमे ईमेल के माध्यम से उसकी जनाकारी प्रदान करे। ताकि हम जल्द से जल्द आपके उससे संबंधित जानकारी प्रदान कर सके। धन्यवाद



Leave a Comment