Best moral story in hindi , नैतिक कहानी हिंदी में

Best moral story in hindi , नैतिक कहानी हिंदी में :: नमस्कार साथियों कैसे है आप आशा हैं कि आप सभी अच्छे होंगे। आज हम आपको कहानियों के क्रम में लेकर आ रहे है। एक और कहानी जिसका शीर्षक हैं – अंगूर खट्टे हैं। यह एक बहुत ही चर्चित लोमड़ी की कहानी हैं। जिसे हम लोगो ने कई बार सुना होगा। परन्तु यह इतना अच्छा प्रेरक प्रसंग हैं। कि इसे हम कभी भी morning Assembly speech in hindi में भी सुना सकते है। जिससे आपसे लोग बहुत अधिक प्रभावित होंगे। हिन्दीवानी आपको अच्छी सी अच्छी कहानियां उपलब्ध कराने का प्रयास करती हैं। तो आइए बिना देर किए पढ़ते हैं। – Best moral story in hindi , नैतिक कहानी हिंदी में ।

Best moral story in hindi , नैतिक कहानी हिंदी में

Best moral story in hindi , नैतिक कहानी हिंदी में

एक बार की बात हैं। एक घना जंगक था। वहां पर बहुत ही ज्यादा पेड़ पौधे और जन्तुओ के खाने के लिए विशेष प्रकार के फल फूल थे। परन्तु एक वक्त ऐसा आया कि वर्ष में सुखा पड़ गया। इसके कुछ ही ऐसे पौधे बचे थे। जो हरे भरे थे। और सभी सूख चुके। इस प्रकार से जन्तुओ में खाने को लेकर बहुत ही मसक्कत करनी पड़ती हैं।

उसी जंगल मे एक लोमड़ी रहती हैं। लोमड़ी बहुत दिन से भूखी थी। उसे खाना नही मिल पा रहा था। वह इधर उधर कुछ भी खाने हेतु पूरे जंगल मे थल रही हैं। अचानक से उसे एक अंगूर का पेड़ मिला। जो बहित ही हरा भरा था और उसमें अंगूर की गुच्छे बहुत सारे लगे हुए थे।

लोमड़ी को अंगूर का पेड़ देख कर बहुत ही ज्यादा प्रशन्नता हुई। उसने सोचा आज तो खाने का प्रबंध हो जाएगा। वह पेड़ की तरफ आगे पड़ी। और नजदीक जाने पर उसने पाया कि अंगूर काफी ज्यादा ऊँचाई पर उपलब्ध हैं।

परन्तु लोमड़ी ने सोचा कि मैं इसे खाऊँगी। उसने कई प्रयास किये बार बार वह उन गुच्छों की तरह खुदति। परन्तु ऊँचाई में अंगुर होने की वजह से वह वहां तक पहुच नही पा रही थी।

बहुत सारे लोमड़ी ने प्रयास किया। परन्तु वह यह प्रयास का क्रम जारी रखा। लेकिन एक समय ऐसा आया कि लोमड़ी ने हार मान ली। एयर उसने सोचा कि मैं बेफालतू का इन अंगूरों के पीछे पड़ी हुई हैं। क्या पता इतना प्रयास करने के बाद भी मैं इन अँगुरो को जब पाऊ। तो ये शायद खट्टे ही अंगूर निकले।

बाद में लोमड़ी वहां से चली जाती हैं। और उसकी यही सोच भूख के कारण उसकी एक दिन जान ले लेती हैं। क्योंकि उसको कहि पर भी खाना फिर नही मिल पाता हैं।

नैतिक कहानी से मिलने वाली –

इस कहानी को पढ़ने के पश्चात हमे यही सिख मिलती हैं। कि यदि हमसे कोई कार्य आसानी से हो पा रहा हैं। उसके लिए हम हमेशा तैयार रहेगा। परन्तु यदि आपके कुछ प्रयासों के बाद भी हम वह कार्य नही कर पाते है। तो उसके प्रति हम लोग बहाने बनाने लगते है। परन्तु ऐसा बिल्कुल भी नही होंना चाहिए।

Final word –

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी जनाकारी Best moral story in hindi की जानकारी आपको पसन्द आयी होगी। यदि आपको नैतिक कहानी हिंदी में पसन्द आयी हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे। साथ ही साथ इस कहानी को आप छोटे बच्चों को सुनाकर प्रेरित कर सकते है।

यदि आपको यह कहानी पसन्द आयी हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे। साथ ही साथ यदि आपके पास हमारे जैसे ही कोई भी अन्य कहानी हो। तो हमे हमारी ईमेल आईडी में जरूर भेजे। उसे हम आपके नाम और फ़ोटो के साथ वेबसाइट में प्रकाशित करेंगे। धन्यवाद

Leave a Comment