विस्मृति का अर्थ एवं परिभाषा|Meaning and definition of forgetting

विस्मृति का अर्थ एवं परिभाषा|Meaning and definition of forgetting : विस्मृति यूपीटेट सीटेट के लिए एक महत्वपूर्ण टॉपिक है विस्मृति विषय पर आज है hindivaani आज विस्तृत चर्चा करेगा।

स्मृति की तरह ही विस्मृति भी एक मानसिक प्रक्रिया है।अंतर केवल इसमे इतना पाया जाता है । कि विस्मृति एक निष्क्रिय तथा नकारात्मक क्रिया है। जब हम कोई नई बात सीखते हैं या नया अनुभव प्राप्त करने की कोशिश करते है।तब हमारे मस्तिष्क में उसका चित्र अंकित हो जाता है।

विस्मृति का अर्थ एवं परिभाषा|Meaning and definition of forgetting

विस्मृति का अर्थ और परिभाषा, विस्मृति का शिक्षा में महत्व, विस्मृति के कारण, विस्मृति कम करने के उपाय, विस्मृति के सिद्धांत,स्मृति और विस्मृति,विस्मृति का कारण,विस्मरण के कारण,विस्मरण का अर्थ,विस्मरण के सिद्धांत,विस्मरण के कारणों का वर्णन कीजिए, विस्मृति का अर्थ एवं परिभाषा,स्मृति विस्मृति, types of forgetting
 forgetting in hindi, vismarti kya hain,forgetting psychology in hindi, vismarti ke sidhant kya hain
विस्मृति का अर्थ और परिभाषा, विस्मृति का शिक्षा में महत्व, विस्मृति के कारण, विस्मृति कम करने के उपाय, विस्मृति के सिद्धांत,स्मृति और विस्मृति,विस्मृति का कारण,विस्मरण के कारण,विस्मरण का अर्थ,विस्मरण के सिद्धांत,विस्मरण के कारणों का वर्णन कीजिए, विस्मृति का अर्थ एवं परिभाषा,स्मृति विस्मृति, types of forgetting
forgetting in hindi, vismarti kya hain,forgetting psychology in hindi, vismarti ke sidhant kya hain

विस्मृति का अर्थ (Meaning of forgetting)

हम अपनी स्मृति की सहायता से उस अनुभव को अपनी चेतना में फिर लाकर उसका स्मरण कर सकते हैं। पर कभी कभी हम ऐसा करने में असफल होते हैं।हमारी यह असफल प्रक्रिया विस्मृत कहलाती हैं।

विस्मृति की परिभाषाएं (Definition of forgetting)

विभिन्न शिक्षण शास्त्रियों के अनुसार विस्मृति की निम्नलिखित परिभाषाएं हैं।

मन के अनुसार विस्मृति की परिभाषा

“सीखी हुई बात को स्मरण रखने या पुनः स्मरण करने की असफलता को विस्मृति कहते हैं।”

ड्रेवर के अनुसार विस्मृति की परिभाषा

“विस्मृति का अर्थ है – किसी समय प्रयास करने पर भी किसी पूर्व अनुभव का स्मरण करने या पहले सीखे हुए किसी कार्य को करने में असफलता।”

फ्रायड के अनुसार विस्मृति की परिभाषा

” विस्मरण वह प्रवत्ति है जिसके द्वारा दुखद अनुभवों को स्मृति से अलग कर दिया जाता है”

विस्मृति के प्रकार(kinds of forgetting)

विस्मृति दो प्रकार की होती है।

READ MORE ::  Dowlode BTC/DELED first semeter book pdf:

सक्रिय विस्मृति

इस विस्मृति का कारण व्यक्ति है।वह स्वयं किसी बात को भूलने का प्रयत्न करके उसे भुला देता है।
फ्रायड का कथन है कि – हम विस्मृति की क्रिया द्वारा अपने दुखद अनुभव को स्मृति से निकाल देते हैं।

निष्क्रिय विस्मृति

इस विस्मृति का कारण व्यक्ति नहीं है। वह प्रयास ना करने पर भी किसी बात को स्वयं भूल जाता है।

उपयोगी लिंक

विस्मृति के कारण (Causes of forgetting)

विस्मृति के कारणों को हम दो भागों में विभक्त कर सकते हैं।

सैद्धान्तिक कारण – बाधा ,दमन और अनभ्यास के सिद्धांत।

सामान्य कारण – समय का प्रभाव, रुचि का अभाव, विषय की मात्रा इत्यादि।

इन सिद्धान्त के अलावा भी अन्य कारण है जो कि निम्न है।

  • बाधा का सिद्धांत
  • दमन का सिद्धांत
  • अनभ्यास का सिद्धांत
  • समय का प्रभाव
  • रुचि,ध्यान व इच्छा का अभाव
  • विषय का स्वरूप
  • विषय की मात्रा
  • सीखने में कमी
  • सीखने की दोषपूर्ण विधि
  • मानसिक आघात
  • मानसिक द्वंद
  • मानसिक रोग
  • मादक वस्तुओं का प्रयोग
  • स्मरण ना करने की इच्छा
  • संवेगात्मक असंतुलन
READ MORE ::  जन्तु कोशिका और पादप कोशिका में अंतर,Difference between animal cell and plant cell in hindi

विस्मृति के सिद्धांत(Theories of forgetting)

विद्वानों में विस्मृति को शास्त्रीय स्वरूप देने के लिए इन सिद्धांतों का प्रतिपादन किया है।

चिन्हह्रास सिद्धांत

यह सिद्धांत सामान अनुभव पर आधारित है इसका आधार समय हैं। समय के अंतराल के साथ-साथ हम बहुत सी चीजों को भूल जाते हैं इस सिद्धांत में अनुप्रयोग का नियम लागू होता है।

व्यतिकरण का सिद्धांत

गुलर, वुडवर्थ, तथा मिल्जेकर मनोवैज्ञानिकों ने बताया कि अधिगम के समय उत्पन्न बाधाएं धारण को प्रभावित करती हैं। भूत ,वर्तमान तथा भविष्य काल का प्रभावात्मक सम्बन्ध है।

पुनआवाह्नन कि विफलता

विस्मरण का कोई स्थायी रूप नही होता है। प्रत्यास्मरन के समय स्मृति कोष से स्मरण की गई सामग्री को खोजा जाता है। इस कार्य मे विफलता से विस्मरण होता है।

अभिप्रेरणा का सिद्धांत

इसे दमन का सिद्धांत भी कहते हैं। जिगारनिक के अनुसार “अपूर्ण कार्य को प्रत्यास्मरण में सफलता का कारण वे अभीप्रेरणाए होती हैं। जिनकी उपलब्धि पूर्ण नहीं होती और उद्देश्य की प्राप्ति का आकर्षण बना रहता है।किंतु पूर्ण कार्यों में उपलब्धि के कारण अभिप्रेरणा संतुष्ट हो चुकी होती है।”

अनुबद्धता का सिद्धांत

जब स्मृति परिपक्व तथा संगठित नहीं होती।तो प्रत्यास्मरण ठीक प्रकार नहीं होता। एक धारणा पर दूसरी धारणा हावी हो जाती है। तो विस्मरण होने लगता है।

विस्मृति का अर्थ और परिभाषा, विस्मृति का शिक्षा में महत्व, विस्मृति के कारण, विस्मृति कम करने के उपाय, विस्मृति के सिद्धांत,स्मृति और विस्मृति,विस्मृति का कारण,विस्मरण के कारण,विस्मरण का अर्थ,विस्मरण के सिद्धांत,विस्मरण के कारणों का वर्णन कीजिए, विस्मृति का अर्थ एवं परिभाषा,स्मृति विस्मृति, types of forgetting
forgetting in hindi, vismarti kya hain,forgetting psychology in hindi, vismarti ke sidhant kya hain

READ MORE ::  भाषा विकास , language development in hindi

शिक्षा में विस्मृति का महत्व (Importance of forgetting in education)

विस्मृति का निम्नलिखित महत्व हैं।

  • क्षणिक महत्व की बातों को बुलाना
  • सामान्य रूप से अनुपयोगी बातों को बुलाना
  • अस्त व्यस्तता से बचाव
  • दुखद अनुभव को भूलना
  • भाषा शिक्षण में उपयोगी सीमित क्षेत्र का उपयोग
  • पुरानी बातों को भूल कर नई बातों को सीखना

विस्मृति कम करने के उपाय (Way of minimising forgetfulness)

विस्मृति कम करने के निम्न उपाय है।

  • पाठ की विषय वस्तु
  • पूरे पाठ का स्मरण
  • पाठ का अधिक स्मरण
  • बालक का स्मरण करने में ध्यान
  • अधिक समय तक स्मरण रखने का विचार
  • विचार साहचर्य के नियमों का पालन
  • पूर्ण व अंतर युक्त विधियों का प्रयोग
  • सस्वर वाचन
  • स्मरण के बाद विश्राम
  • पाठ की पुनरावृति
  • स्मरण करने के नियमों का प्रयोग

आशा है कि हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको पसंद आई होगी इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Tage – विस्मृति का अर्थ और परिभाषा, विस्मृति का शिक्षा में महत्व, विस्मृति के कारण, विस्मृति कम करने के उपाय, विस्मृति के सिद्धांत,स्मृति और विस्मृति,विस्मृति का कारण,विस्मरण के कारण,विस्मरण का अर्थ,विस्मरण के सिद्धांत,विस्मरण के कारणों का वर्णन कीजिए, विस्मृति, types of forgetting
forgetting in hindi, vismarti kya hain,forgetting psychology in hindi, vismarti ke sidhant kya hain

Leave a Comment