विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार

0
104

विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार : आज का hindivaani का टॉपिक हैं। विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार। आज हम इस विषय में विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार के बारे में विस्तृत चर्चा करेंगे।

विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार

विशिष्ट बालकों की समस्या,विशिष्ट शिक्षा का अर्थ एवं परिभाषा,पिछड़े बालक के प्रकार,विशिष्ट शिक्षा के उद्देश्य,विशिष्ट शिक्षा का महत्व,प्रतिभाशाली बालक की समस्याएं,विशिष्ट बालक का निष्कर्ष,प्रतिभाशाली बालक के लक्षण,विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार, विशिष्ट बालक की शिक्षा, विशिष्ट बालक के प्रकार
विशिष्ट बालकों की समस्या,विशिष्ट शिक्षा का अर्थ एवं परिभाषा,पिछड़े बालक के प्रकार,विशिष्ट शिक्षा के उद्देश्य,विशिष्ट शिक्षा का महत्व,प्रतिभाशाली बालक की समस्याएं,विशिष्ट बालक का निष्कर्ष,प्रतिभाशाली बालक के लक्षण,विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार, विशिष्ट बालक की शिक्षा, विशिष्ट बालक के प्रकार

विशिष्ट बालक का अर्थ (Meaning of exceptional children)

प्रत्येक विद्यालय में शिक्षा प्राप्त करने के लिए कुछ सामान्य बालक प्रवेश कहते हैं।तो कुछ ऐसे बालक प्रवेश लेते हैं। जिनमें विशेष प्रकार की शारीरिक और मानसिक विशेषताएं पाई जाती हैं। इनमें से कुछ बालक प्रतिभाशाली तो कुछ मंदबुद्धि और कुछ पिछड़े होते है। और कुछ शारीरिक दोष वाले होते हैं।इनको हम विशिष्ट बालक की संज्ञा देते हैं।अर्थात इन्हें ही हम विशिष्ट बालक कहते हैं।

विशिष्ट बालक के प्रकार (kinds of exceptional children)

विशिष्ट बालक को मुख्यतः चार भागों में बांटा गया है।

  1. प्रतिभाशाली बालक (Gifted children)
  2. पिछड़े बालक (Backward children)
  3. मंदबुद्धि बालक (Mentally Retarded children)
  4. समस्यात्मक बालक(Problem children)

प्रतिभाशाली बालक का अर्थ(Meaning of gifted child)

स्किनर के अनुसार प्रतिभाशाली बालक

“प्रतिभाशाली शब्द का प्रयोग उन 1% बालकों के लिए किया जाता है जो सबसे अधिक बुद्धिमान होते हैं”

टर्मन एंड ओडन के अनुसार प्रतिभाशाली बालक

“प्रतिभाशाली बालक शारीरिक गठन ,सामाजिक समायोजन, व्यक्तित्व के लक्षणों, विद्यालय उपलब्धि, खेल की सूचना और रुचियों की बहू रूपता में सामान्य बालकों से बहुत श्रेष्ठ होते हैं”

प्रतिभाशाली बालक की विशेषताएं (characteristics of gifted children)

प्रतिभाशाली बालक की विशेषताएं निम्नलिखित हैं।

  1. विशाल शब्दकोश
  2. मानसिक प्रक्रिया की तीव्रता
  3. दैनिक कार्य में विभिन्नता
  4. सामान्य ज्ञान की श्रेष्ठता

प्रतिभाशाली बालक की शिक्षा(education of gifted children)

प्रतिभाशाली बालक की शिक्षा निम्न प्रकार की होनी चाहिए।

  1. सामान्य रूप से कक्षाओं में उन्नति
  2. विशेष व विस्तृत पाठ्यक्रम
  3. शिक्षक का व्यक्तिगत ध्यान
  4. संस्कृति की शिक्षा
  5. सामान्य बालकों के साथ शिक्षा
  6. विशेष अध्ययन की सुविधाएं
  7. पाठ्यक्रम सहगामी क्रियाओं का आयोजन
  8. सामाजिक अनुभव के अवसर

पिछड़े बालक का अर्थ (meaning of backward child)

जो बालक कक्षा का औसत कार्य नहीं कर पाता और अच्छा की आवश्यकता पीछे रहता उसे पिछड़ा बालक कहते हैं।

विशिष्ट बालकों की समस्या,विशिष्ट शिक्षा का अर्थ एवं परिभाषा,पिछड़े बालक के प्रकार,विशिष्ट शिक्षा के उद्देश्य,विशिष्ट शिक्षा का महत्व,प्रतिभाशाली बालक की समस्याएं,विशिष्ट बालक का निष्कर्ष,प्रतिभाशाली बालक के लक्षण,विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार, विशिष्ट बालक की शिक्षा, विशिष्ट बालक के प्रकार

लोग क्या पढ़ रहे है – ◆uptet study material free pdf notes in hindi

uptet child development and pedagogy notes in hindi

uptet evs notes in hindi

पिछड़े बालक की परिभाषाएं (definition of backward child)

शोनल व शोनल के अनुसार

“पिछड़े बालक की जीवन आयु के अन्य छात्रों की तुलना में विशेष शैक्षिक निम्नता व्यक्त करते हैं”

पिछड़े बालक की विशेषताएं (characteristics of backward child)

पिछड़े बालक की विशेषताएं निम्नलिखित हैं।

  1. सीखने की धीमी गति ।
  2. जीवन में निराशा का अनुभव ।
  3. समाज विरोधी कार्यों की प्रवृत्ति ।
  4. व्यवहार संबंधी समस्याओं की अभिव्यक्ति।

पिछड़ेपन या शैक्षिक मंदता के कारण(causes of backward retardation)

पिछड़ेपन व शैक्षिक मन्दता के कारण निम्नलिखित हैं।

  1. सामान्य से कम शारीरिक विकास
  2. शारीरिक दोष
  3. शारीरिक रोग
  4. निम्न सामान्य बुद्धि
  5. परिवार की निर्धनता

पिछड़ेपन बालक की शिक्षा (education of backward child)

पिछड़ेपन बालक की शिक्षा निम्नलिखित प्रकार की होनी चाहिए।

  1. विशिष्ट विद्यालय की स्थापना
  2. विशिष्ट कक्षाओं की स्थापना
  3. विशिष्ट विद्यालयों का संगठन
  4. अच्छे शिक्षकों की नियुक्ति
  5. छोटे समूहों में शिक्षा
  6. विशेष पाठ्यक्रम का निर्माण
  7. अध्ययन के विषय
  8. हस्तशिल्प की शिक्षा

मानसिक रूप से मंद बालक या मन्द बालक का अर्थ (meaning of retarded children)

मानसिक मंदता वाले बालकों की बुद्धि लब्धि साधारण बालकों की बुद्धि लब्धि से कम होती है।

मंदबुद्धि बालक की विशेषताए( characteristics of retarded child)

मंदबुद्धि बालक की विशेषताएं निम्नलिखित हैं।

  1. विद्यालय में असफलताओं के कारण निराशा ।
  2. संवेगात्मक और सामाजिक असमायोजन ।
  3. सीखी हुई बात को नई परिस्थिति में प्रयोग करने में कठिनाई
  4. मान्यताओं के संबंध में अटल विश्वास।

मंदबुद्धि बालक की शिक्षा

मन्द बुद्धि बालक की शिक्षा निम्नलिखित प्रकार की होनी चाहिए।

1.विशेष प्रकार की देखरेख में इनका प्रशिक्षण तथा कपड़े पहने उतारने का अभ्यास ,भोजन करते समय शिष्टाचार आदि प्रकार की शिक्षा होनी चाहिए।

2.मंदबुद्धि बालकों को सामाजिक प्रशिक्षण सामूहिक कार्यों परिजनों हर दिन की योजनाओं और विशिष्ट शिष्टाचार की शिक्षा द्वारा दिया जाना चाहिए।

3.शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की शिक्षा।

4.निष्क्रिय और सक्रिय मनोरंजन की शिक्षा।

समस्यात्मक बालक का अर्थ(meaning of problem child)

जिसके व्यवहार में कोई ऐसी असामान्य बात होती है।जिसके कारण वह समस्या बन जाती है।उन्हें समस्यात्मक बालक कहते हैं।

जैसे -चोरी करना झूठ बोलना आदी।

समस्यात्मक बालकों के प्रकार

  1. चोरी करने वाले बालक
  2. झूठ बोलने वाले बालक
  3. क्रोध करने वाले बालक
  4. मादक द्रव्यों का सेवन करने वाले बालक

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको पसंद आई होगी। इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

tages-विशिष्ट बालकों की समस्या,विशिष्ट शिक्षा का अर्थ एवं परिभाषा,पिछड़े बालक के प्रकार,विशिष्ट शिक्षा के उद्देश्य,विशिष्ट शिक्षा का महत्व,प्रतिभाशाली बालक की समस्याएं,विशिष्ट बालक का निष्कर्ष,प्रतिभाशाली बालक के लक्षण,विशिष्ट बालक का अर्थ और प्रकार, विशिष्ट बालक की शिक्षा, विशिष्ट बालक के प्रकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here