यमक अलंकार किसे कहते है, परिभाषा, उदाहरण

यमक अलंकार किसे कहते है, परिभाषा, उदाहरण:: आज हम आपके लिए हिंदी विषय से सम्बंधित जानकारी ले कर आये है। जिसके अंतर्गत hindivaani आपको आज यमक अलंकार किसे कहते है, परिभाषा, उदाहरण आदि चीज की जानकारी प्रदान की जाएगी। इसके अंतर्गत आपको यमक अलंकार से सम्बंधित सभी प्रकार के प्रश्नों के उत्तर आपको मिल जायेंगे। तो चलिए शुरू करते है।

यमक अलंकार किसे कहते है, परिभाषा, उदाहरण

यमक अलंकार किसे कहते है, परिभाषा, उदाहरण
यमक अलंकार किसे कहते है, परिभाषा, उदाहरण

यमक अलंकार किसे कहते हैं?

जब किसी काव्य पंक्तियों में एक ही शब्द दो या दो से अधिक बार आए। और उसका अर्थ हर बार भिन्न भिन्न हीं हो।तो वहां पर यमक अलंकार होता है।

यमक अलंकार के उदाहरण

यमक अलंकार के उदाहरण निम्नलिखित हैं।

■काली घटा का घमंड घटा
नभ मंडल तारक वृंद खिले।।

ऊपर दिए हुए पंक्तियों हम यह देखते हैं। कि घटा शब्द का प्रयोग दो बार हुआ है।जिसमें से दोनों घटा शब्द का अर्थ अलग-अलग है। जिसमें एक घटा का अर्थ है-काले बादल। और दूसरी घटा का अर्थ हैं- कम होना।घटा शब्द से इन पंक्तियों में सौंदर्य उत्पन्न हो रहा है।इसलिए यहां पर यमक अलंकार है।

■ कहै कवि बेनी, बेनी ब्याल की चुराई लीनी।
रति रति सोभा सब रति के सरीर की।।

ऊपर पंक्तियों में हम यह देखते है। कि बेनी शब्द की आवृत्ति दो बार हुई है पहले बेनी शब्द का अर्थ है कवि का नाम दूसरी बेनी शब्द का अर्थ है -चोटी इस प्रकार हम यह देखते हैं।कि दूसरी पंक्तियों में रति शब्द का प्रयोग तीन बार हुआ है पहली बार ”रति -रति” का अर्थ है-रत्ती और दूसरा जो रति शब्द का प्रयोग किया गया है उसका अर्थ है -कामदेव की परम सुंदर पत्नी रति। इस प्रकार बेनी और रति शब्दों की आवृत्ति में चमत्कार उत्पन्न हो रहा है ।इस वजह से यहां पर यमक अलंकार है।

अनुप्रास अलंकार किसे कहते है?

यमक अलंकार परिभाषा उदाहरण ,यमक अलंकार के १० उदाहरण इन हिंदी,यमक अलंकार किसे कहते है, यमक अलंकार, यमक अलंकार के उदाहरण, यमक अलंकार के परीक्षा में आये प्रश्न, Yamak alkar अलंकार किसे कहते है?

■भजन कह्यो ताते भज्यौ,भज्यौ न एको बार।
दूरि भजन जाते कह्यो , सो तू भज्यौ गवाँर।।

ऊपर दिए गए दोहे में हम यह देखते हैं।कि भजन और भज्यौ शब्दों की आवृत्ति कई बार हुई है।भजन शब्द के दो अर्थ है भजन- भजन पूजन और भजन- भाग जाना इसी प्रकार भज्यौ के भी दो अर्थ है भज्यौ- भजन किया और भज्यौ- भाग गया।

इस प्रकार भजन और भज्यौ शब्द आवृत्ति से दोहे में चमत्कार उत्पन्न हो रहा है। इस वजह से यहां पर यमक अलंकार है।

यमक अलंकार के अन्य उदाहरण

यमक अलंकार के अन्य उदाहरण निम्नलिखित हैं।

■कनक कनक ते सौ गुनी मादकता अधिकाय।
या खाए बौराये जग या पाये बौराये।।
कनक – सोना। कनक – धतूरा।

■ माला फेरत जुग भया। फिरा न मनका फेर।
कर का मनका डारि दे, मन का मन का फेरा।।
मनका – माला का दाना। मनका- ह्रदय

■जे तेरी बेर खाती थी ते बेर खाती थी।
तीन बेर- तीन बार, तीन बेर- तीन बेर के दाने।

यमक अलंकार परिभाषा उदाहरण ,यमक अलंकार के १० उदाहरण इन हिंदी,यमक अलंकार किसे कहते है, यमक अलंकार, यमक अलंकार के उदाहरण, यमक अलंकार के परीक्षा में आये प्रश्न, Yamak alkar

यमक अलंकार के परीक्षा उपयोगी प्रश्नोत्तर

यमक अलंकार के परीक्षा उपयोगी प्रश्नोत्तर निम्नलिखित है।

●जहां शब्दों शब्दांशो या वाक्यांशों की आवृत्ति हो।किंतु उनके अर्थ अलग अलग हो वहां कौन सा अलंकार होता है- यमक अलंकार

● कबिरा सोई पीर हैं, जे जाने पर पीर।
जे पर पीर न जानई,सो काफ़िर बेपीर।।

●तो पर वारौं उर बसी,सुन राधिके सुजान।

● रनित भृग घन्टावली झरित दान मधुनीर।
मन्द -मन्द आवत चल्यो कुंजरू कुंज समीर।।

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी यमक अलंकार किसे कहते है। कि जानकारी आपको पसब्द आयी होगी इसे अपनेदोस्तो से जरूर शेयर करे।

टैग्स-यमक अलंकार परिभाषा उदाहरण ,यमक अलंकार के १० उदाहरण इन हिंदी,यमक अलंकार किसे कहते है, यमक अलंकार, यमक अलंकार के उदाहरण, यमक अलंकार के परीक्षा में आये प्रश्न, Yamak alkar

Leave a Comment