मौसम और जलवायु में अंतर

मौसम और जलवायु में अंतर -आज हिंदीवानी आपके लिए जो टॉपिक लेकर आया हैं। उसका नाम हैं मौसम और जलवायु में अंतर। इस आर्टिकल के अंतर्गत हम आपको मौसम का अर्थ , जलवायु का अर्थ , मौसम और जलवायु के तत्व , मौसम और जलवायु को प्रभावित करने वाले कारक आदि की जानकारी प्रदान करेंगे। तो आइए शुरू करते है।

मौसम और जलवायु में अंतर

मौसम और जलवायु में अंतर
मौसम और जलवायु में अंतर

मौसम का अर्थ –

किसी स्थान विशेष की अल्पकालीन वायुमंडलीय दशाएं – तापमान ,वायुदाब, वर्षा ,पवन, संचार आदि के योग को को को के योग को को को मौसम कहते हैं।मौसमी दशाओं मैं अल्पकाल में ही परिवर्तन हो जाता है।अर्थात ही किस स्थान पर एक ही दिन में कई प्रकार का मौसम हो सकता है। परंतु कभी-कभी मौसमी दशाएं कई दिन तक एक जैसी बनी रह सकती हैं। जैसे वर्षा ऋतु में कई दिन तक लगातार वर्षा होती रहती है।

जलवायु का अर्थ –

किसी स्थानीय क्षेत्र में दीर्घकालीन वायुमंडलीय दशाओं के योग को जलवायु को जलवायु कहते हैं।जलवायु में परिवर्तन एक लंबी अवधि में हो सकता है।अतः जलवायु में वायुमंडलीय दशाओं के औसत का विशेष महत्व होता है। सामान्यतः 25 से 35 वर्षों की भाषण मौसमी दशाओं के औसत को जलवायु कहा जाता है। इस प्रकार किसी स्थान या प्रदेश में एक ही प्रकार की जलवायु दशाएं पाई जाती हैं।

READ MORE ::  CTI कोर्स क्या होता हैं ?और CTI Admission process

मौसम और जलवायु में अंतर –

मौसम एवं जलवायु में बहुत सूक्ष्म अंतर होता हैं। सामन्यतः अल्पकालीन वायुमंडलीय दशाएं मौसम एवं दीर्घकालीन वायुमंडलीय दशाएं जलवायु की धोतक हैं ।दूसरे शब्दों में मौसम में अल्पकाल में तथा जलवायु में दीर्घकाल में परिवर्तन होते हैं। इसके अतिरिक्त मौसम का प्रभाव क्षेत्र छोटा होता है। जबकि जलवायु का संबंध किसी विशाल क्षेत्र से होता है।

मौसम और जलवायु के तत्व –

धरातल पर एक समान जलवायु नहीं पाई जाती हैं। सभी स्थानों पर जलवायु के कारकों में भिन्नता के कारण एक ही स्थानीय प्रदेश से दूसरे स्थानीय प्रदेश की जलवायु में विभिन्नता पाई जाती है ।अतः जिन कारकों के कारण मौसम तथा जलवायु के तत्व में प्रादेशिक एवं का कालिक परिवर्तन होते हैं। उन्हें मौसम अथवा जलवायु के कारक,नियंत्रक अथवा तत्व कहा जाता है।तापमान , वायुभार, वर्षा, धूप बादल ,पवन , आर्द्रता आदि मौसम एवं जलवायु के प्रमुख तत्व हैं हैं।

जलवायु को प्रभावित करने वाले कारक –

जलवायु को प्रभावित करने वाले कारक निम्नलिखित हैं।

  1. अक्षांशीय एवं देशांतरीय स्थिति ।
  2. स्थल और जल का वितरण।
  3. समुद्र तल की ऊंचाई ।
  4. पर्वतीय और अवरोध।
  5. वायु राशियां ।
  6. महासागरीय धाराएं ।
  7. वायुमंडलीय विक्षोभ।
READ MORE ::  विराट कोहली कि जाति क्या है ? Virat kohli cast in hindi

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी मौसम और जलवायु में अंतर की जानकारी आपको पसन्द आयी होगी। यदि यह जानकारी आपको पसन्द आयी हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Leave a Comment