बाल विकास का अर्थ और परिभाषा Meaning and definition of child development

बाल विकास का अर्थ और परिभाषा (Meaning and definition of child development) :: बाल विकास के अंतर्गत ही यूपीटेट और सीटेट में काफी प्रश्न पूछे जाते है। तो यह जानना आवश्यक हो जाता हैं। कि बाल विकास क्या हैं? तो आज Hindivaani आपको बाल विकास का अर्थ और परिभाषा (Meaning an d definition of child development) की जानकारी प्रदान करेगा। जिसके अंतर्गत आपको बाल विकास का अर्थ , बाल विकास की परिभाषा, बाल विकास के उद्देश्य, बाल विकास के क्षेत्र आदि की जानकारी प्रदान की जाए।

बाल विकास का अर्थ और परिभाषा (Meaning and definition of child development)

बाल विकास का अर्थ और परिभाषा (Meaning and definition of child development)
बाल विकास का अर्थ और परिभाषा (Meaning and definition of child development),बाल विकास का अर्थ और परिभाषा (Meaning and definition of child development)

बाल विकास का अर्थ

विकास एक निरन्तर जाने वाली प्रक्रिया है।विकास के फल स्वरुप ही बालक विभिन्न प्रकार के अवस्था से गुजरता है। और उसका शारीरिक , मानसिक और सामाजिक विकास होता हैं। संक्षेप में यदि कहा जाए तो बालविकास के अंतर्गत साभि प्रकार के परिवर्तन आ जाते है। और यह परिवर्तन विकास की अवस्था मे कब और क्यों होते है। इन साभि का अध्ययन ही बाल विकास कहलाता हैं।

बाल विकास की परिभाषाए

बाल विकास की परिभाषाएं निम्नलिखित हैं।

READ MORE ::  अभिप्रेरणा का अर्थ, परिभाषाये, सिद्धान्त, Meaning and definition of motivationa in hindi

ड्रेवर के अनुसार बाल विकास की परिभाषा

“विकास ,प्राणी में होने वाली प्रगतिशील परिवर्तन है।जो किसी लक्ष्य की ओर लगातार निर्देशित होता है।उदाहरण – किसी भी जाति में भ्रूण अवस्था से लेकर प्रौढ़ावस्था तक उत्तरोत्तर परिवर्तन है।”

हरलाक के अनुसार बाल विकास की परिभाषा

“विकास की सीमा अभिवृद्धि तक ही नहीं है।अपितु इसमें प्रौढ़ावस्था के लक्ष्य की और परिवर्तनों का प्रगतिशील क्रम निहित रहता है।विकास के परिणाम स्वरूप व्यक्ति में अनेक नवीन विशेषताएं एवं नवीन योग्यताएं स्पष्ट होती हैं।”

मुनरो के अनुसार बाल विकास की परिभाषा

“परिवर्तन श्रंखला की उस अवस्था को जिसमें बालक प्रौढ़ावस्था से लेकर प्राण अवस्था तक गुजरता है ,विकास कहा जाता है।”

बाल विकास के उद्देश्य ( Aims of child development )

1.बाल विकास के अंतर्गत शिक्षक को इस बात का ज्ञान कराया जाता हैं। कि बालक की अंर्तनिहित शक्तियों का विकास कैसे हो।

2.बाल विकास के माध्यम से ही बालक का चहुमुखी विकास किया जाता हैं।जिससे बालक का व्यक्तित्व निखारा जा सके।

3.बालविकास का प्रमुख उद्देश्य बालक की अंतर्निहित शक्तियों का विकास कर उसे कुशल नागरिक बनाना हैं।

READ MORE ::  अपसारी और अभिसारी चिंतन में अंतर| Diffrence between divergent and convergent thinking

4.बाल विकास का मुख्य उद्देश्य बालक का शारीरिक , मानसिक और सामाजिक विकास करना है। ताकि वह आगे चलके राष्ट्र की प्रगति में सहायोग कर सके।

5.बालविकास का उद्देश्य बालक केजीवन मे आने वाली विभिन्न प्रकार की कठिनाइयों को दूर करना हैं। ताकि बालको एक सर्वांगीण विकास संभव हो सके।

बाल विकास के क्षेत्र ( Scope of child development)

बल विकास के अंतर्गत निम्नलिखित क्षेत्र हैं।

  1. शारीरिक विकास ।
  2. मानसिक विकास ।
  3. संवेगात्मक विकास ।
  4. सामाजिक विकास ।
  5. चारित्रिक विकास ।
  6. भाषा विकास ।
  7. सृजनात्मकता का विकास।

शारीरिक विकास ( Physical development)

बाल विकास के अंतर्गत बालक के भ्रूणावस्था से लेकर बाल्यावस्था के विकास का अध्ययन किया जाता है।और यह देखा जाता है कि बालक है, यदि शारीरिक विकास उचित क्रम में नहीं हो रहा। तो उनको कारणों को जानने का प्रयास किया जाता है और उनको दूर किया जाता है।

मानसिक विकास ( Mental development)

बालको के मानसिक विकास का अध्ययन भी बाल विकास के अंतर्गत आता है।इसके अंतर्गत बालकों की क्रियाओ एवं संवेगों का अध्ययन किया जाता है।क्योंकि हम यह देखते हैं कि बालक में अनेक प्रकार के परिवर्तन होते हैं।जो कि मानसिक विकास को प्रकट करते है। जैसे – वस्तुओं पकड़ना विभिन्न प्रकार की आवाज करना।

READ MORE ::  बुद्धि परीक्षण और उनके प्रकार

संवेगात्मक विकास (Emotinal development ) –

बालकों के विभिन्न संवेगों संबंधित गतिविधियों का अध्ययन भी बाल विकास के अंतर्गत आता है।संवेगात्मक विकास के अंतर्गत संवेग उत्तेजना पीड़ा आनंद क्रोध परेशानी प्रेम आदि का अध्ययन किया जाता है।

सामाजिक विकास – सामाजिक विकास के अंतर्गत बालकों के सामाजिक व्यवहार का अध्ययन किया जाता है।सामाजिक व्यवहार के अंतर्गत परिवार के सदस्यों को पहचानना, उनके प्रति क्रोध एवं प्रेम की प्रतिक्रिया व्यक्त करना ,परिचित से प्रेम तथा आने से भयभीत होना एवं बड़े अन्य व्यक्तियों के कार्य में सहायता देना आदि को शामिल किया जाता है।

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी बाल विकास का अर्थ और परिभाषा (Meaning and definition of child development) की जानकारी आपको पसन्द आयी होगी ।यदि बाल विकास का अर्थ और परिभाषा (Meaning and definition of child development) की जानकारी आपको पसन्द आयी हो तो इसे अपने दोस्तो से जरूर शेयर करे।

Leave a Comment