प्रेणादायक कहानी , Motivational story in hindi

प्रेणादायक कहानी , Motivational story in hindi :: विद्यालय कॉलेज में बहुत से ऐसे अवसर आते है। जब हम प्रेणादायक कहानी सुनाने के लिए कहा जाता हैं। हम बहुत इस विषय को लेकर चिंतित हो जाते है। तो आज hindivaani आपके लिए प्रेणादायक कहानी , Motivational story in hindi लेकर आया हैं। जिसे आप अपने विद्यालय और कॉलेज में बहुत ही आसानी से सुना सकते है।

प्रेणादायक कहानी , Motivational story in hindi

प्रेणादायक कहानी , Motivational story in hindi
प्रेणादायक कहानी , Motivational story in hindi

एक बार की बात हैं। कि एक गुरुकुल था। गुरुकुल में विद्या बहुत ही ज्यादा अच्छी प्रदान की जाती थी। वहां पर प्रत्येक लोग अपने बच्चे को पढ़ाना चाहते थे। परन्तु यह सपना हर व्यक्ति का पूरा नही हो पाता हैं। वह इसीलिए की गुरूकुल ने अपनी कुछ अहर्ता रखी थी। जो बहुत ही ज्यादा कठिन थी। इसे पूरा करना बहुत ही ज्यादा कठिन था। वह अहर्ता कुछ इस प्रकार थी।

● विद्या ग्रहण करने वाले छात्र को उसके घर का कोई सदस्य न छोड़ कर कोई दूसरा व्यक्ति गुरुकुल तक छोड़ने आये।
● गुरुकुल में शिक्षा ग्रहण करते वक्त यदि बालक आ रहा हैं। तो वह वापस मुड़कर अपने घर की ओर मत देखे।
● बालक को गुरुकुल के लिए सूर्य उदय से पहले घर से निकलना होगा।
● गुरुकुल की शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्र की आयु 8 वर्ष हो।
● गुरुकुल में तब तक प्रवेश नही करना। जब तक कोई आचार्य अंदर से लेने ना आये।

इन सभी अहर्ताओं को समझ कर एक परिवार इन सभी चीजो को पूरा करने के लिए राजी हुवा।और उनसे अपने बच्चे को गुरुकुल जाने के लिए तैयार किया। उन्होंने बच्चे को अपने घर के नौकर के साथ 7 वर्ष की आयु पूरी होने पर भेजा। और बच्चे से कहा कि आप पीछे मुड़कर मत देखिएगा। बच्चे ने बहुत ही दृढ़ता पूर्वक इन सभी बातों को पूरा करते हुए विद्यालय के गेट में आ पहुचा।

सुबह के 6 बज चुके थे। लड़का गेट के बाहर इन्तेजार करने लगा। 7 भी बज चुके थे। अब तक कोई भी अंदर से उसे लेने नही आया। बच्चे पढ़ने भी आने लगे थे। कुछ बच्चे उनमे से उसे काफी परेशान किये। किसी से उसके बाल खिंचे तो किसी से उसकव पीछे से मारा पर वह उसी जगह पर बैठा रहा। सुबह से शाम का वक्त हो चुका था अब भी कोई बाहर नही आया था।

फिर बच्चो को छुट्टी हो गयी पुनः बच्चे उसे परेशान करके घर को वापस चले गए। छुट्टी होने के लगभग एक घण्टे पश्चात एक आचार्य बच्चे के पास आते है। और कहते है। कि अब तुम इस गुरुकुल में शिक्षा प्राप्त करने के लिए तैयार हो।

प्रेणादायक कहानी से शिक्षा – छोटे छोटे संकल्प ही आपको क्षमतावान बनाते है। यदि आप किसी भी चीज का संकल्प कर ले। और उसके प्रति लगन से मेहनत करे। तो आप अपने जीवन की नई बुलंदियों में अवश्य पहुचेंगे।

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी प्रेणादायक कहानी , Motivational story in hindi आपको पसन्द आयी होगी। यदि प्रेणादायक कहानी , Motivational story in hindi आपको पसन्द आयी हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Leave a Comment