गार्डनर का बहुबुद्धि सिद्धान्त(Gardner theory of multiple intteligence

0
70

गार्डनर का बहुबुद्धि सिद्धान्त(Gardner theory of multiple intteligence: आज का hindivaani का टॉपिक है गार्डनर का बहुबुद्धि का सिद्धान्त। आज हम आपको गार्डनर का बहुबुद्धि सिद्धान्त के बारे में सम्पूर्ण जानकारी मुहैया कराएगे।

गार्डनर का बहुबुद्धि सिद्धान्त(Gardner theory of multiple intteligence

Gardner ka bahubudhi sidhant, bahubudhi sidhant ke janak,gardner theory of multiple intelligence,bahubudhi ke prakar,bahubudhi ka sidhant kisne diya, manovigyan ke sidhant,gardner dwara pratipadit bahubudhi sidhant,गार्डनर का बहुबुद्धि सिद्धान्त
Gardner ka bahubudhi sidhant, bahubudhi sidhant ke janak,gardner theory of multiple intelligence,bahubudhi ke prakar,bahubudhi ka sidhant kisne diya, manovigyan ke sidhant,gardner dwara pratipadit bahubudhi sidhant,गार्डनर का बहुबुद्धि सिद्धान्त

गार्डनर अमेरिका के coginitive psychologist थे। इनसे पहले सभी लोग यह मानते थे।बुद्धि सिर्फ एक ही प्रकार की होती है। जिसके द्वारा हम किसी भी विषयवस्तु को अगर आपको समझना है। तो उसे या तो आप याद कर सकते हैं। या फिर किताबो के द्वारा पढ़ और समझ सकते है।परन्तु हावर्ड गार्डनर ने बताया कि किसी भी चीज को समझने या समझाने के कई अलग अलग तरीके हो सकते है। जिसके अंतर्गत ही इन्होंने बहुबुद्धि का सिद्धान्त दिया। जिसे हम गार्डनर का बहुबुद्धि सिद्धान्त कहते है। इन्होंने बहुबुद्धि की सर्वप्रथम बात अपनी पुस्तक Frames of mind में कही थी।ये पियाजे ,इरिक इरिक्सन, ब्रूनर आदि मनोबैज्ञानिको से प्रभावित थे। इन्होंने आठ प्रकार की बुद्धि बताई है। जो निम्नलखित है।

Gardner ka bahubudhi sidhant, bahubudhi sidhant ke janak,gardner theory of multiple intelligence,bahubudhi ke prakar,bahubudhi ka sidhant kisne diya, manovigyan ke sidhant,gardner dwara pratipadit bahubudhi sidhant

भाषागत (lingustic)

इसके अंतर्गत ऐसे व्यक्ति आते है। जिनमे भाषा प्रवाह और अपनी बात को किसी के समक्ष रखने की क्षमता होती है। जैसे- कवि , लेखक आदि।

देशिक(spital) –

ऐसे व्यक्ति जो मानसिक बिम्बो को बनाने तथा उनका परिमार्जन करते है। जैसे- विमान चालक, चित्रकार, वास्तुकार

लोग क्या पढ़ रहे है – ◆uptet study material free pdf notes in hindi

uptet child development and pedagogy notes in hindi

uptet evs notes in hindi

शारीरिक गति सवेगी(bodily kinesthetic)

जो व्यक्ति अपने शरीर या किसी अंग के लोच का उपयोग कर सकता हैं। वो लोग इसके अंतर्गत आते है। जैसे – डांसर, स्पोर्ट पर्सन

संगीतात्मक (Musical)

संगीत के प्रति रुचि रखने वाले व्यक्ति इसके अंतर्गत आते है। जैसे- Musical composer

तार्किक – गणितीय (Logical mathematics)

इसके अंतर्गत वैज्ञानिक चितन और समस्या समाधन के कौशल से परिपूर्ण व्यक्ति आते है जैसे- वैज्ञानिक

अन्तः व्यक्ति(Intrapersonal) –

इस प्रकार के व्यक्ति खुद के बारे में अधिक जानने वाले होते है। जैसे- दार्शनिक, धर्म नेता आदि।

अन्तरवैयक्तिक (Interpersonal)-

इसके अंतर्गत व्यक्ति दूसरे की भावनाओं , व्यवहारों, अभिप्रेरणा आदि के बारे में जानकर उनसे एक अच्छा संवाद करता है। जैसे- साइकोलॉजिस्ट

प्रकृतिवादी (Naturalistic)-

नेचर के बारे में अधिक जानकारी रखने वाले व्यक्ति इसके अंतर्गत आते है जैसे -शिकारी, किसान,पर्यटक आदि।

tages: Gardner ka bahubudhi sidhant, bahubudhi sidhant ke janak,gardner theory of multiple intelligence,bahubudhi ke prakar,bahubudhi ka sidhant kisne diya, manovigyan ke sidhant,gardner dwara pratipadit bahubudhi sidhant

आशा है कि हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको पसंद आई होगी इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here